Tag Archives: shailendra

Shankar Jaikishan and Their Love for Music

Photo & citation by

Lakshmi K. Tummala

Spending a major portion of their time in the music room shows Shankar Jaikishan’s love for music. For them, it is more of a passion than business.

Seen in the picture are SJ with Dattaram and Shailendra.
Spending a major portion of their time in the music room shows Shankar Jaikishan’s love for music. For them, it is more of a passion than business.
Seen in the picture are SJ with Dattaram and Shailendra and two guests, who may be producers

‘Chalat Musafir Moh Liya Re’ is not traditional folk tune

Contrary to the general assumption that “Chalat Musafir Moh Liya Rem Pinjare Wali Muniya” written by Shailendra and composed by Shankar Jaikishan for film TEESRI KASAM is a folk song or based on fold tune, IT IS NOT A TRADITIONAL FOLK TUNE.

Image result for chalat musafir moh liya re

It is magic of Shailendra’s pen and baton of music directors duo Shanker Jaikishen’s thought to give a tune and structure to the lyric that not only general people and music lovers, but musicologists too started believing that it must be based on some folk music or tune.

Image result for chalat musafir moh liya re
Image result for chalat musafir moh liya re
चलत मुसाफिर मोह लिया रे पिंजड़े वाली मुनिया
चलत मुसाफिर मोह लिया रे पिंजड़े वाली मुनिया
उड़ उड़ बैठी हलवैया दोकनिया
उड़ उड़ बैठी हलवैया दोकनिया
हे रामा उड़ उड़ बैठी हलवैया दोकनिया
अरे उड़ उड़ बैठी हलवैया दोकनिया
बर्फी के सब रस ले लिया रे पिंजड़े वाली मुनिया
बर्फी के सब रस ले लिया रे पिंजड़े वाली
मुनिया बर्फी के सब रस ले लिया रे पिंजड़े वाली मुनिया

हे हे हे हे …. हे रामा
उड़ उड़ बैठी बजजवा दोकनिया
उड़ उड़ बैठी बजजवा दोकनिया
आहा उड़ उड़ बैठी बजजवा दोकनिया
अरे कपड़ा के सब रस ले लिया रे…………

उड़ उड़ बैठी पनवड़िया दोकनिया
उड़ उड़ बैठी पनवड़िया दोकनिया
हे रामा उड़ उड़ बैठी पनवड़िया दोकनिया
अरे बीड़ा के सब रस ले लिया रे……..

Suraj, the Sensational Super Hit of Shanker Jaikishen

This feature by



Lakshmi K. Tummala

It was one Sunday afternoon, during my school days, that the telephone rang. It was Mr. T. Prakasa Rao, our neighbor in Chennai, my father’s contemporary in the movie industry and a family friend, asking to speak to my father. I told him that he was on location at a hill station, shooting a couple of songs for his upcoming movie. Prakasa Rao uncle, as I called him, told me that we were invited to a private screening of his new movie that evening. I ran to my mother to tell her of the exciting news. But, immediately, I fell into a big dilemma since I had promised to help my friend, Rekha, with a project which was due the next day.

Image result for film Suraj

I called Rekha and told her about the invitation to the movie. She immediately had a solution to my problem which at that time seemed major. She suggested coming over to my home after I returned from the movie. We could then work on the project as long as we can and that she would then take it home and complete it. What a great idea, I thought. But then, I felt very guilty to have her work late into the night to finish the assignment. I told her that and Rekha, being an angel that she is, told me not to worry about it, but to go and enjoy the movie. She knew how much I liked Vyjayanthimala and SJ music. We had already heard the songs of the movie before and loved them a lot. I couldn’t wait to see them in the movie.

We reached the preview theater and were warmly greeted by Prakasa Rao uncle. A few more friends of his had also arrived. Soon the lights were turned off and the movie began. Personally, I never cared much for non-social movies, but then this is not one of them. It had lots of twists and turns which didn’t bother me at all. I only had eyes for my favorite Vyjayanthimala and ears for SJ songs.

I must say that the music in this movie is outstanding. SJ composed a great album. There are seven songs in all with each one being a gem. The two by new singer, Sharda, are by Shailendra and the other five, by Hasrat. SJ covered a wide range of composition styles and achieved great success. Although I heard them before, the songs sounded much better in the preview theater with great acoustics. I thought Vyju looked fabulous, especially in the songs. “Baharon phool barsao…” sounded so very romantic. “Titli udi..” had already taken the country by storm, but I personally liked “Dekho mera dil machal gaya..” better. “Kaise samjhawoon…” in a semi-classical style, by Rafi and Asha, was superb! “Itna hai tumse…” by Rafi and Suman Kalyanpur was also very good. Rafi sounds too good in the frolicsome number, “Chehre pe giri zulphein..” and last, but not the least, ” Ek baar ati hai…” with Rafi, Asha and chorus is a very delightful song.

Suraj was a musical treat for me. At the end of the movie, Prakasa Rao uncle asked me how it was. “Uncle, you have a winner” I said. He raised his eyebrows. I told him the movie was very entertaining and the music was sure to win a FF Award for Best Music Director. I went home humming one song after another. Rekha came over. We sat through the night and completed the project. She spent the night with me and we went to school the next morning. Believe it or not, I later saw this movie two more times in the theater which tells something about it. When the FF awards were announced, Prakasa Rao uncle was so happy that he sent a big box of chocolates for me with a note saying, “You were right Papa, we won!” I was very happy to know that the movie won SJ, Hasrat and Rafi, Filmfare Awards for Best Music Director, Lyricist and Singer, respectively. As for me, I had already voted for the music in the affirmative. You go, SJ!

This image has an empty alt attribute; its file name is 61454705_10157661258980798_4250075073756528640_n.jpg
Lakshmi K. Tummala, author of this feature

Tribute to Shailendra after his demise by Jaikishen

by

Jay subramanyam

That sad Wednesday afternoon, a little after he died, the radio sang :

Aye mere dil kahin aur chal 
gham ki duniya se dil bhar gaya 
dhoondle ab koi ghar naya
“.

It was Shailendra’s own lyric from `Daag’. He, too, had just told his weary heart : “I am full of the world’s sorrows. Let me seek a new home!”.

At the nursing home where he lay, we, his close friends, tried vainly to hold back our tears. Twenty years is a long time to know anyone, particularly in the film industry where “friendships” are made and broken easily, too easily.

Twenty years ago, we – a small group of people – had started from nothing. We had dreams, and nothing else, to sustain us. We had stood together, to the surprise and possibly dismay of many, and together we had worked out a common destiny. And today, without warning, death has laid an icy hand on one of us.

Dhoond le ab koi ghar naya.”. He had done it.

For “Teesri Kasam” his own production, he had written :

Sajan re jhoot mat bolo, khuda ke paas jana hai, na haathi hai na ghoda hai, vahaan paidal his jaana hai.”

True enough. We all have to go on foot. There will be no elephants to carry us, no horses, no Impalas. Poets have to go there when the call comes and ordinary men too.

But do the poets of the world, true creative artistes, really die?

Born and brought up a man of the people, Shailendra remained that all his life. His lyrics, like he himself, were simple, and had depth. And what a variety! He could dash off a frothy love lyric, he could compose a deeply philosophical poem. He wrote of sadness, gaiety, resignation, despair, hope.

Ye poorab hai, poorab wale, har jaan ki keemat jaante hain“, he said, in the theme song of `Jis Desh Mein Ganga Behti Hai’. That was the pariot. “Awara hoon“, he sang, in a manner at once, light-hearted and serious. The song became world famous. And it was the same patriot who laughingly wrote “Mera joota hai Japani” in `Shri 420′.
 
When Shailendra joined our fold – at the time of Raj Kapoor was making “Barsaat” – it was with two lyrics he had ready – “Barsaat mein humse mile tum” and “Patli kamar hai“. He said goodbye to the R.K. Banner, again with two lyrics, for “Mera Naam Joker”. In between, from his work done not only for us – Shanker and myself – but for other composers, I can name scores of lovely lyrics, songs which have been on everyone’s lips.

By the way, Shailendra has written lyrics for all films for which my partner Shanker and I have composed the music with the exception of `College Girl’ and `Aarzoo’. In the latter film, he didn’t work with us because he was ill.

Shanker and I met Shailendra for the first time twenty years ago. Raj Kapoor introduced us at his office which was then at Famous Studios, Mahalaxmi. Shailendra had a job in the railway workshop at Parel. He wrote poetry in his spare time. One of his poems – “Jalta hai Punjab” – moved Raj Kapoor so much he wanted to put it in `Aag’. But Shailendra was then not keen on contributing lyrics to films. He later changed his mind and joined us for `Barsaat’.

The last time I ever saw him in good health was at Rajkamal studios about a month ago where I was doing some back-ground music recording. And you know what he was saying? Despite all the difficulties he had experienced in producing `Teesri Kasam’ he wanted to launch another film!

In the early days, Shailendra was living in a one room tenement at Parel. After `Barsaat’, my partner had been offered our first contract outside R.K. ( the film was Mr. Dalsukh Pancholi’s `Nagina’) and wanting to persuade Shailendra to write the lyrics, I visited him for the first time at his home. Like us, he was quite needy then, but his work caught on quickly and he became much sought after. His address had a few changes – from somewhere, Parel, to `Rim Jhim’, his own home at Khar, but all along the man himself never changed.

He was intelligent, very gentle, full of knowledge and very sensitive. His love of poetry and literature was paramount. Tagore was an early favourite as also Khalil Gibran. He was always nice company, whether you were discussing poetry or politics. He was very emotional and wept when something moved him. When he was composing a lyric, he would walk restlessly about the room. He loved writing on the beach. From the early days, he smoked incessantly – I wish he had been more careful.

He was young – only 43. Why did he have to go that early and with so much mental suffering?

In the music room of Shanker-Jaikishan at our homes where he was so welcome, there will be a void. There will be a bigger void in our hearts.

Dhoond le ab koi ghar naya…”.

 Goodbye, my friend.

`FILMFARE’ – JANUARY 20, 1967

This is courtesy : Jay Subramanyam who composed it on Jan 12, 2009 at 1:54 PM

by

Suresh Sarvaiya

💐 Shankar Jaikishan & Kishore Kumar 🎂
Shankar-Jaikishen (SJ): The music director duo who revolutionized the very definition of Hindi film music with their path-breaking music and tunes… Compiled by Suresh Sarvaiya

Kishore Kumar: The genius actor-singer who created his own path and carved a place in the Hindi film music scene which people cannot even dream of achieving…

The association of Shankar Jaikishan with Kishore Kumar has various interesting aspects. Shankar Jaikishan (S-J), who rarely used Kishore. Trivia has it that Kishore Kumar was not the original choice for lead & that some songs had already been recorded when he joined the cast of movie Shararat (1959). Though Kishore had already sung numbers like ‘Dukhi man mere
sun mera kahena….’ for sad occasions, the second antara of this song makes you feel that it needed Rafi’s high-pitch.

Surprisingly no song in the first 8 years of mutual co-existance in the music kingdom of SJ, 18 songs in the next 13 years of association and then, 87 songs in last 17 years. Another intriguing part is, for the first 13 years, SJ were the uncrowned king of Hindi film music and Kishore Kumar a non-considerate in playback singing and in the next 17 years, well, almost vice versa. “Almost” is because Jaikishen – the more prominent of the duo, died in 1971, and upto 1986, Shankar single handedly kept the S-J flag flying. As the musical parallelism goes, many still believe, it was Jaikishen with whom the camaraderie of Kishore would have blended better- and the proof was there with “Zindagi ek safar hai suhana”, the chartbuster Jaikishen had made with Kishore just months after the former passed away. But the fact is, out of 105 songs Kishore recorded under SJ baton, almost 70 songs came for Shankar only, owing to Jaikishen’s early demise.

After departure of Jsikishan, it started gradual decline of Shankar amongst mainstream cinema. After giving music to almost 350 movies, the exhaustion showed With no Jaikishen, Shankar tried to put his foothold intact with occasional hits in Resham Ki Dori (1974), Sanyasi (1975) and Do Jhoot (1975). Many of Shankar’s hits that time came with Kishore like “Chhatri na khol” (Do Jhoot), “Mere dil mein tu hi tu hai” (International Crook), “Chamka paseena” (Resham ki Dori) and “Tu jahan main wahan”(Garm khoon). Both Shankar and Kishore demised in 1987. While one was given a superstar farewell, the other went away quietly.

Interestingly they even made their debut around the same time – Shankar
Jaikishen’s debut film as independent music directors was R K Films’ Barsaat which released in 1949 & Kishore Kumar’s debut film as an actor and a playback singer (sang for Dev Anand) was Ziddi which released in 1948…

But, the fact remains that Shankar Jaikishen were amongst the greatest music directors in Indian Cinema and Kishore Kumar was one of the greatest playback singers. Although their peak periods don’t match, in spite of being contemporaries, they did give us some brilliant output together.

New Delhi, Krorepati, Begunaah, Rangoli and Shararat are the five films for which Shankar-Jaikishen worked with Kishore Kumar where he acted and sang his own songs and what beautiful music they created by this combination.

Here are some gems by SJ & Kishore Da (list may be vary with individual choice) –
* Nakhrewali….. – New Delhi (1956)
* Chhotisi yeh duniya – Rangoli (1962)
* Rangoli sajaao – Rangoli (1962)
* Munne ki amma yeh to bata…’ – Tum 
Haseen Main Jawaan (1968)
* Humlog hai aise deewane – Umang (1970)
* Geet gata hoon main – Lal Patthar (1971)
* Jaane anjaane log mile – Jaane Anjaane 
(1971).
* Bhanwre ki gunjan – Kal aaj aur kal (1971)
* Zindagi ek safar hai – Andaaz (1971)
* Saath mein pyara saathi – Dil Daulat 
Duniya (1972)
* Kehta hai dil o mere – Chorni (1980)
Compiled by Suresh Sarvaiya

FANTASTIC FOUR — Shankar Jaikishan Shailendra Hasrat

लेखक :

सुधाकर शहाणे

दो भटकते राही – ‘शंकर – जयकिशन’,
आ मिले मंज़िल पर – चंद्रवदन भट ऑफीस, मायानगरी बंबई,
दो दिलों की कश्ती आ लगी साहिल पर – ‘पृथ्वी थिएटर्स’,
मुस्कुराते जागे एक संग दो मुक़द्दर’ – राज साहब की फ़िल्म ‘बरसात’ में स्वतंत्र संगीत निर्देशन का मौका …

फिर …

‘२१ अप्रेल १९४९’ को बंबई के सिनेमा घरों की ओर जानेवाली सडकोंपर सिनेमा प्रेमियों की भीड उमडी थी, इसी दिन राज साहब की फिल्म ‘बरसात’ प्रदर्शित हुई थी, यह लोग बेताब थे, इस फ़िल्म के गीत पर्देपर देखने के लिए … एक युवा जोडीकी संगीत सफ़र की यह शुरुआत थी … फ़िल्म के शुरू होते ही श्रेय नामावली में (Titles) Music – Shankar – Jaikishan, Lyricist – Hasrat Jaipuri – Shailendra यह चार नाम पहली बार परदेपर दिखाई दिए, जो फ़िल्म का प्रमुख आकर्षण थे…’शंकर – जयकिशन’ इस नवोदित और युवा संगीतकार द्वयी का संगीत, और शैलेंद्र – हसरत इन नौजवां युवकों द्वारा लिखे गीत, उस दिन बहुचर्चित विषय बना था … इन चार युवकों नें हिंदी सिनेमा संगीत की दुनिया मे पहला कदम रखा था … ‘एस-जे’ ने इसी फिल्म से स्वतंत्र संगीत निर्देशन का ‘आगाज’ किया था … उस दिन शाम के ढलते ढलते ‘अंजाम’ यह था क़ि, युवा ‘एस-जे’ और उनकी धुनों से सजे गीत हर किसी के दिलमें जा बसे थे, साथ में ‘शैलेंद्र – हसरत जयपुरी’ जैसे युवा गीतलेखक, जो इन गीतों के रचनाकार थे … बंबई के साथ और बाद में जहां जहां बरसात प्रदर्शित हुई वहां उसे सफलता ही मिली…भारतवर्ष के तमाम संगीत शौकीन जो बदलाव चाहते थे, वोह ‘एस-जे’ लेकर आये थे हिंदी सिने संगीत में … नयी रचनाओं के साथ, नयी कर्णमधुर धुनों से सजे गीत लेकर …चार होनहार युवक, शंकर – हैदराबाद, जय – वंसदा (गुजरात), शैलेंद्र – मथुरा तो हसरत जयपुरी – ‘गुलाबी शहर’ जयपूर से बंबई आए थे … क़िस्मत आजमाने, आँखों में सपने सजाये, इस भूलभुलैय्या वाली मायानगरी में … और अपने पहले ही प्रयास में वें चारों सफल हुए थे.
‘बरसात में हमसे मिले तुम सजन तुमसे मिले हम बरसात में’,
‘जिया बेकरार हैं’,
‘हवा में उडता जाये’,
‘मैं जिंदगी में हरदम रोता’,
‘मुझे किसी से प्यार हो गया’,
‘अब मेरा कौन सहारा’,
‘छोड़ गए बालम’,
‘पतली कमर’,
‘मेरी आँखों मे बस गया कोई रे, 
‘बिछड़े हुए परदेसी’…..
सब गीत बेहद लोकप्रिय हुए …
अपनें धुवांधार संगीत से ‘एस-जे’ की जोडी ने संगीत के मैदान पर पहली बाज़ी जीत ली थी, हर किसीं का मन मोह लिया था … ‘बरसात’ की अपार सफलता से तीन बातें एक साथ हो गयी थी, एक तो राज साहब को इस जोड़ी की क़ाबिलीयत पर यक़ीन हो गया था, वोह अपनी शुरुआती फिल्मों की असफ़लता के ‘चक्रव्यूह’ से बाहर निकल गए थे, उनकी करिअर को दिशा मिल गयी थी, दूसरी बात उन्होंने RK स्टुडियो खरीद लिया था, …तीसरी और सबसे महत्वपूर्ण बात यह थी, ‘एस-जे’ के क़दम उस ‘संगीत सम्राट’ के सिंहासन की ओर बढ़ गए थे, जो उन्हें दूर से इशारा कर रहा था … और दूरी ज्यादह नहीं थी. 
१९५१ में आवारा प्रदर्शित हुई और भारत की सीमा लाँघकर ‘एस-जे’ ने दूसरा क़दम सीधा विदेश में रक्खा … रूस, चीन, बल्गेरिया, टर्की के युवक रास्तों पर ‘आवारा हूँ’ यह गीत गाकर झूमने लगे,नाचने लगे थे … सभी गीत झक्कास थे, एस-जे अपनी दूसरी ही फ़िल्मसे ‘जगन्मान्य’ हो गए थे … तरोताज़ा, मदमस्त धुनें बनाकर वें विश्व में अपनी पहचान बना चुके थे … फिर संगीत प्रेमियों ने तुरंत उन्हें ‘संगीत सम्राट’ के सिंहासन पर बिठा कर उनकी ताज़पोशी कर दी थी.

‘आवारा हूँ’,
‘तेरे बिना आग ये चाँदनी’
‘घर आया मेरा परदेसी’,
‘दम भर उधर मुंह फेरे’,
‘हम तुझसे मोहब्बत करके सनम’
‘एक बेवफ़ा से प्यार किया’,
‘जबसे बलम घर आएं’,
‘आ जाओ तड़पते हैं अरमाँ’ …. 
यह गीत लोकप्रियता की चरम सीमा लांघ गए थे …

‘बरसात’, ‘आवारा’ के बाद अगले १० साल में उनकी ‘आह’, ‘पतिता’, ‘शिकस्त’, ‘दाग’, ‘मयुरपंख’, ‘श्री ४२०’, ‘राजहठ’, ‘पटरानी’, ‘न्यू दिल्ली’, ‘बसंत बहार’, ‘चोरी चोरी’, ‘कठपुतली’, ‘छोटी बहन’, ‘हलाकू’, ‘यहूदी’ आदि फिल्में प्रदर्शित हुईं और वें इन फिल्मों में बेहतर से बेहतरीन गीत पेश करते गए … 
‘बसंत बहार’ का ख़ास जिक़्र करना चाहूंगा … यह फ़िल्म ‘LITMUS TEST’ थी और ‘एस-जे’ इसमें आसानी से अव्वल नंबर्स लेकर उत्तीर्ण हुए थे … इस फिल्म के सब गीत रागदारी पर आधारित थे, विभिन्न रागों का प्रयोग किया था और उन्हें इस प्रयोग में जबरदस्त कामयाबी मिली थीं.

‘केतकी,गुलाब,जूही,चंपक बन फूले’ – राग – ‘बसंत बहार’,
‘सूर ना सजे’ – राग – ‘पिलू बसंत’,
‘जा जा रे जा बालमवा’ – राग ‘झिंझोटी’,
‘नैन मिले चैन कहाँ’ – राग – ‘रागेश्री’,
‘दुनिया ना भाये मुझे’ – राग ‘तोड़ी’,
‘कर गया रे मुझपे जादू’ – राग ‘रागेश्री’,
‘बड़ी देर भयी’ – राग ‘दरबारी’

एस-जे का यह मुँहतोड़ और क़रारा जवाब था, उन लोगों को जो, उन्हें सिर्फ पश्चिमी ढंग की रचनाओं का संगीतकार मानते थे, जो एस-जे की क़ाबिलियत पर प्रश्नचिन्ह लगाते थे … ‘बसंत बहार’ के बाद यह लोग हमेशा के लिए ख़ामोश हो गए … ‘पटरानी’ की रचनाएँ भी इसी स्तर की थी, तो ‘हलाकू’ और ‘यहुदी’ में अरेबिक ढंग का संगीत था, जो उन फिल्मों की ज़रूरत थी… बसंत बहार के बाद एस – जे और खुल कर, आत्मविश्वास के साथ अपनी रचनाएँ पेश करने लगे … उनकी संगीतशैली में अब और ख़ुमार आया था …पश्चिमी, अरेबिक, और शास्त्रीय संगीत तीनों ढंग में उन्होंने अपनी रचनाएँ पेश की थी और संगीत रसिकों के लिए यह बेशक़ीमती उपहार था … परिपूर्ण अभ्यास, कठोर संगीत साधना से उन्होंने संगीतकला को नया आयाम दिया था, नयी पहचान दी थी …

‘एस-जे’ की इन फिल्मों के कुछ यादगार गीत …

‘पतिता’ – ‘याद किया दिलने कहाँ हो तुम, ‘है सबसे मधुर गीत वो’, ‘किसी ने अपना बनाके मुझको’ …
‘आह’ – ‘आजा रे अब मेरा दिल पुकारा’, ‘रात अँधेरी दूर सवेरा’, ये शाम की तनहाइयाँ’ …
‘श्री ४२०’ – ‘रमैय्या वस्तावैया’, ‘मेरा जूता है जापानी’, ‘इचक दाना बिचक दाना’, ‘प्यार हुआ इकरार हुआ’, ‘दिल का हाल सुनें दिलवाला’
‘दाग’ – ‘ए मेरे दिल कहीं और चल’,
‘शिकस्त’ – ‘जब जब फूल खिले’, ‘कारे बदरा तू ना जा’, ‘चमके बिजुरियां’
‘पटरानी’ – ‘चंद्रमा मदभरा, 
‘बसंत बहार’ – ‘केतकी, गुलाब, जूही, चंपक बन फूले, सूर ना सजे, 
‘राजहठ’ – ‘ये वादा करो चाँद के सामने’, 
‘कठपुतली’ – ‘बोल री कठपुतली’
‘छोटी बहन’ – ‘जाऊँ कहा बता ए दिल’, ‘भैया मेरे राखी के बंधन को निभाना’, मैं रंगीला प्यार का राही’ …
‘यहूदी’ – ‘ये मेरा दीवानापन है’, ‘मेरी जां मेरी जां’, ‘
‘हलाकू’ – ‘दिल का ना करना एतबार कोई’, ‘अजी चले आवो’, ‘आजा के इंतजार में’
‘चोरी चोरी’ – ‘आजा सनम मधुर चाँदनी में’, ‘पंछी बनू उडती फिरुं’, 
‘अनाडी’ – ‘वो चांद खिला’, ‘सब कुछ सीखा हमनें ना सीखीं होशियारी’, 
‘कन्हैया’ – ‘मुझे तुमसे कुछ भी ना चाहिये’, ‘

‘चोरी चोरी’ (१९५६) के अफ़लातून संगीत के लिए उन्हें ‘फ़िल्म फेयर पुरस्कार’ से सन्मानित किया गया …यह उनका पहला पुरस्कार था …शास्त्रीय संगीत के साथ पाश्चिमात्य,अरेबिक ऐसे सब संगीत प्रयोग सफल हुए थे … अब एस-जें के सामने मुक़ाबले में कोई खड़ा नही था, मुकाबला ख़ुद से ही था … संगीत साम्राज्य के वोही चक्रवर्ती सम्राट है इस बात को लेकर, अब किसी के मनमें कोई आशंका नहीं थी.
एस-जें का साज़गार तबला, हारमोनियम, सतार, बांसरी, ढोलक, डफली, मटका, सनई इन पारंपारिक वाद्यों के साथ पियानो, गिटार, अकॉर्डियन, व्हायलिन, मँडोलिन, इलेक्ट्रिक गिटार, सैक्सोफोन, इलेक्ट्रिक ऑर्गन, ट्रम्पेट, बोंगो, कोंगो ऐसी आधुनिक साजों से सजा था, इन अमोघ अस्त्रों का अपनी फिल्मों में चतुराई से प्रयोग करके एस-जें लगातार रसिकों के दिलों का वेध लेते रहे, उन्हें सम्मोहित करते रहे…
५० – ६० साजिंदे चक्रवर्ती सम्राट एस-जे के दरबार में हाज़िर हमेशा हाज़िर रहते थे … ‘दत्तू ठेका’ तो घर घर में पहुँच चुका था…साथ कविराज – हसरत यह दरबारी राजकवियों की जोडीद्वारा निरंतर बेहतरीन गीत निर्मिती हो रही थी. 
१९६० से एस-जे पूरी सुरीली लय में थे, उनके द्वारा संगीतबद्ध की कई बेहतरीन फिल्में प्रदर्शित हुई. इनमें से कुछ प्रमुख थी,
‘जिस देश में गंगा बहती हैं’, ‘असली नकली’, ‘जब प्यार किसी से होता है’, ‘ससुराल’, ‘दिल अपना और प्रीत पराई’, ‘एक दिल सौ अफ़साने’, ‘आशिक़’, ‘कन्हैया’, ‘दिल एक मंदिर’, ‘जंगली’, ‘प्रोफेसर’, ‘दिल तेरा दीवाना’, ‘हमराही’, ‘जिंदगी’, ‘राजकुमार’, ‘संगम’, ‘लव्ह इन टोकियो’, ‘आरजू’, ‘जानवर’, ‘सूरज’, ‘तीसरी कसम’, ‘गबन’, ‘सांझ और सवेरा’, ‘आम्रपाली’, ‘अँन इव्हिनिंग इन पँरिस’, ‘दीवाना’, ‘दुनिया’, ‘मेरा नाम जोकर’, ‘प्रिंस’, ‘पहचान’, ‘ब्रह्मचारी’, ‘शिकार’, ‘रात और दिन’, ‘संन्यासी’, ‘अंदाज’ आदि
इन फिल्मों में उनके अप्रतिम धुनों से सजे गीतों से उनका संगीत साम्राज्य और बढ़ता गया … अजरामर गीतों से समृद्ध होता गया.

‘एस-जे’ के ‘फ़िल्म फेअर पुरस्कार –
१९५७ – चोरी चोरी, १९६० – अनाडी, १९६१ – दिल अपना और प्रीत पराई, १९६३ – प्रोफेसर, १९६७ – सूरज, १९६९ – ब्रम्हचारी, आख़री की ‘हॅट्रिक’ १९७१ – पहचान, १९७२ – मेरा नाम जोकर, १९७३ – बेईमान.

भारत सरकार द्वारा ‘पद्मश्री’ पुरस्कार से सन्मानित …

उनकी रागदारी पर आधारित कुछ रचनाएं …..

सदा सुहागिन राग – ‘भैरवी’

बरसात में हमसे मिले तुम सजन – बरसात
रमैय्या वस्तावैय्या – श्री ४२०
मेरा जूता हैं जापानी – श्री ४२०
तेरा जाना दिल के अरमानों का लूट जाना – अनाडी
दोस्त दोस्त ना रहा – संगम 
तुम्हें और क्या दूं मैं – आयी मिलन की बेला 
राजा की आयेगी बारात – आह
कैसे समझाऊँ बडी नासमझ हो – सूरज 
जा जा रे जा बालमवा – बसंत बहार

राग – ‘शिवरंजनी’ 
आवाज़ दे के हमें – प्रोफेसर
बहारों फूल बरसाओ – सूरज 
ओ मेंरे सनम दो जिस्म मगर – संगम
दिलके झरोंखें में तुझको बिठाकर – ब्रम्हचारी
चंद्रमा मदभरा – पटरानी

राग – ‘किरवाणी’ 
आई झुम झुम रात ये सुहानी – लव्ह मैरीज
गीत गाता हूं मैं – लाल पत्थर
याद ना जायें बीतें दिनों की – दिल एक मंदिर
तुम्हें याद करते करते – आम्रपाली
तुम जो हमारे मीत ना होते – आशिक
जब भी ये दिल उदास होता हैं – सीमा 
मन रे तू ही बता क्या गाऊँ – हमराही

राग – ‘जयजयवंती’ 
मनमोहना बडें झूठें – सीमा
सूनी सूनी सांस के सितार पर – लाल पत्थर

राग – ‘दरबारी कानडा’ 
हम तुझसे मोहब्बत करके सनम – आवारा
तू प्यार का सागर है – सीमा
कोई मतवाला आया मेरे द्वारे – लव्ह इन टोकियो
छम छम बाजे रे पायलिंया – जाने अनजाने

राग – ‘झिंझोटी’ 
जा जा रे जा बालमवां – बसंत बहार
जाऊँ कहाँ बता ए दिल – छोटी बहन
तुम मुझे यूँ भूला ना पावोगे – पगला कहीं का

राग – ‘पहाडी’
मेरी अंखियों में बस गया कोई रे – बरसात
प्रीत ये कैसी बोल – दाग
मोरा नादान बालमा – उजाला

राग – ‘पिलू’
अजहूं ना आये बालमा – सांज और सवेरा
दिन सारा गुजारा तोरे अंगना – जंगली
मुरली बैरन भयी रे – न्यू दिल्ली

राग – ‘दरबारी’
राधिके तू ने बंसरी चुराई – बेटी बेटे
झनक झनक तोरी बाजे पायलियां – मेरे हुजूर 
बड़ी देर भयी – बसंत बहार
मुझे तुमसे कुछ भी न चाहिये – कन्हैया

राग – ‘भूपाली’
नील गगन की छांव में – आम्रपाली
सायोनारा – लव्ह इन टोकियो

राग – ‘शुद्ध कल्याण’
रसिक बलमा – चोरी चोरी
मेरी मुहब्बत जवां रहेगी – जानवर

राग – ‘भीम पलासी’
देखो मेरा दिल मचल गया – सूरज
तड़प ये दिन रात की – आम्रपाली

राग – ‘रागेश्री’
मेरे संग गा गुनगुना – जानवर
कर गया रे मुझपे जादू – बसंत बहार 
नैन मिले चैन कहाँ – बसंत बहार

राग – ‘जोगिया’
दिल एक मंदिर है – दिल एक मंदिर

राग – ‘यमन कल्याण’
एहसान तेरा होगा मुझपर – जंगली

राग – ‘चारुकेशी’
बेदर्दी बालमा तुझको – आरजू

राग – ‘पिलू-बसंत’
सूर ना सजे – बसंत बहार

राग – ‘तोडी’
दुनिया ना भाये मोहे अब तो बुला ले – बसंत बहार

राग – ‘तिलक कामोद’ 
हम तेरे प्यार में सारा आलम – दिल एक मंदिर

राग – ‘गारा’
उनके खयाल आयें – लाल पत्थर

राग – ‘बसंत बहार’
केतकी,गुलाब,जूही चंपक बन फूले – बसंत बहार

इनके अलावा ऐसे सेकड़ों बहारदार गीत रचे थे, एस-जे की जोडीने .. वाकई अचाट, अफाट, अफ़लातून, अगम्य, अतर्क्य काम था यह…रात रात जाग कर उन्होंने अपना साम्राज्य खड़ा किया था … सालोंसाल संगीत की उपासना कर, इस साधकद्वयीने साक्षात ‘माँ सरस्वती को प्रसन्न किया था, सर पर माँ का ‘वरदहस्त’ होने की वजह से, गीत को किस राग में बाँधना, किस गायक /गायिका से /किस नायक /नायिका के लिये गवाना, ५०-६० साजिंदे संभालना, उन्हें स्वरलिपी लिखकर देना यह सब बहुत जटिल था,लेकिन इन प्रतिभासंपन्न संगीत सम्राटोंनें उसे आसान बना दिया. 
‘एस-जें’ का संगीत, उनके सभी गीत हमारे ह्रदय में सदा बसे रहेंगे…उनके कुछ विविधता भरे
गीत … मेरे और आपके भी पसंदीदा.

‘केतकी,गुलाब, जूही,चंपक बन फूले’ – पं.भीमसेन जोशी – मन्ना दा की जुगलबंदी अविस्मरणीय.

‘याद किया दिल ने’ – हसरत-एस-जे-लता-हेमंत कुमार का बेहद खूबसूरत, मनमोहक गीत.

‘आ अब लौट चले’ – व्हायलिन की झंकार, लताजी के आलाप हृदयस्पर्शी.

‘ये मेरा प्रेमपत्र पढ़कर’ – इस गीत का लुत्फ़ उठाना है तो, यह गीत परदेपर शुरू होने से पांच मिनट पहले ध्यान से देखियेगा फिर आप एस-जे के क़माल की, उनके करिश्मे की खुल कर दाद ज़रूर दोगे.

‘दोस्त दोस्त ना रहा’,
‘दिलके झरोखें में तुझको बिठाकर’ – एस-जे के सर्वोत्तम पियानो गीत.

‘हर दिल जो प्यार करेगा’ – त्रिकोणीय सुंदर प्रेमाभिव्यक्ती …
राधासे एकतरफ़ा प्रेम करनेवाले सुंदर का भरी महफिल में मुहब्बत का खुला इज़हार, ‘राधा’ संयम से वास्तव बयां करती है, तो ‘गोपाल’ सुंदर की दोस्ती के खातिर अपना और राधा का प्यार बख़ूबी छुपाता है, और जब वोह ‘अपना के हर किसीको बेगाना जायेगा’ कहता है, तब ‘संगम’ का अंत क्या होगा ? यह समझ में आता हैं.

‘आ गले लग जा’ – एप्रिल फूल के इस गीत की प्रस्तावना (Prelude) ८.३० मिनट की.

‘कैसे समझाऊँ बडी नासमझ हो’ – आशा – रफ़ी इन टॉप क्लासिकल फॉर्म.

‘देखो अब तो किसको नहीं है खबर’ – गिटार वादन झक्कास, आशा – रफ़ी साहब ने इसे मस्ती में गाया है, पश्चिमी ढंग का, ‘बीटल्स’ के “I wanna hold your hand” पर आधारित, लेकीन ‘ओरिजिनल’से भी बेहतरीन.

‘आजा रे आ ज़रा आ लहराके आ ज़रा आ’ – गिटार, वादन और रफ़ीसाहब का ‘मिडास टच’.

‘ये मेरा दीवानापन हैं’ – प्यार में टूटें हुए दिल की पुकार … तब भी और आज भी.

‘ये शाम की तनहाइयाँ’,
‘रसिक बलमा’,
‘तेरा जाना दिलके अरमानों का लूट जाना’,
‘बेदर्दी बालमा तुझको मेरा मन याद करता हैं’ – प्रेमी के विरह में प्रेमिका अक्सर इन्ही गीतों कों गुनगुनाती है.

‘ए फूलों की रानी बहारों की मलिका’,
‘ऐ गुलबदन’ – प्रेमिका की तारीफ़ प्रेमी आज भी ऐसे ही करता है.

‘अजी रूठकर अब कहाँ जाईयेगा’ – प्रेमिका की मीठी और सुरीली तकरार

‘प्यार आँखों से जताया तो बुरा मान गये’ – और ये प्रेमी की तकरार.

‘दिन सारा गुजारा तोरे अंगना’ – घर लौटने की इजाजत मांगती प्रेमिका.

‘होठों पे सच्चाई रहती हैं’ – भारतीय संस्कृती की पहचान, हर भारतीय इसे अभिमान से गायेगा, अव्वल नंबर का ‘मातृभूमि वंदन गीत’… कविराज ख़ुद डफली बजानें में माहिर थे, … राजसाब ने इसी डफली का साथ लेकर, अपनी फ़िल्म ‘जिस देश में गंगा बहती है’ का ‘राजू’ साकार किया था.

‘बहारों फूल बरसाओ’ – बँडपथक का अत्यंत प्रिय गीत, विवाह समारंभ में इसे अवश्य बजाया जाता है, हसरत साहब का पहला ‘फ़िल्म फेयर पुरस्कार’ विजेता गीत.

‘तुम्हें याद करते करते’ – सितार – सरोद लाजवाब, लताजी का अत्युत्कृष्ट गीत, कविराज – एस-जे का शायद आखरी.

‘सजन रे झूठ मत बोलो’ – ‘त्रिकालाबाधित सत्य’, ‘कविराज’ शैलेंद्र जी की सरल शब्दावली और एस-जे की सुरीली धुन, सदाबहार,अविस्मरणीय गीत.

‘आजा सनम मधुर चाँदनी में’, 
‘दिल की नज़र से’,
‘वो चाँद खिला’ – शीतल चाँदनी रातों में घूमते हुए प्रेमी – प्रेमिकाओं के होठों पर होते है यह प्रेमगीत.

‘सब कुछ सीखा हमने ना सीखी होशियारी’ – असामाजिक तत्वों पर कविराज जी का प्रहार … यहां होशियारी का अर्थ मक्कारी होता हैं … इस देश के करोड़ो ईमानदार लोगों का कालजयी गीत … अकॉर्डियन पीसेस जबरदस्त.

‘हम भी है तुम भी हो’ – ‘सत-असत’ दोनो पहलू दर्शानेवाला गीत, कविराज जी की ‘प्रगल्भता’ लफ्जों में, एस- जे की ‘प्रतिभा’ धुनों में दिखाई देती हैं …एक बेहतरीन गीत जो, आज भी हृदय में बसा हुआ हैं.

‘तेरे बिना आग ये चाँदनी’ और बादमें आनेवाला ‘घर आया मेरा परदेसी’ – आवारा का यह भव्य ‘स्वप्न दृश्य गीत’ सिर्फ़ ‘न भूतो न भविष्यती’ … फिर कविराज और एस-जे लाजवाब,

‘हम तुझसे मोहब्बत करके सनम’,
‘रात अँधेरी दूर सवेरा’ 
‘आजा रे अब मेरा दिल पुकारा’ – हसरत साब सिर्फ़ रोमँटिक शायर नही बल्कि सिद्धहस्त कवि थे …ये दर्दभरे गीत उनकी क़ाबिलियत की पुष्टी करते है.

‘अजहूँ ना आएँ बालमा’ – यह हसरत साहब की शास्त्रीय रचना अभी भी उतनी ही ताजगीभरी.

‘चाहे कोई मुझे जंगली कहे’ – सिर्फ़ और सिर्फ़ शम्मी कपूर के लिए बनाया गया.
‘जानेवाले ज़रा होशियार’ – सॅक्सोफोन मस्त, ‘राजकुमार’ शम्मी कपूर’ छा गए थे.
आसमान से आया फरिश्ता’ – मदमस्त संगीत एस-जे का, ऐसे स्टंटस् उस दौर में शम्मी कपूर की ख़ासियत.
‘बदन पे सितारें’ – ‘एस-जे’ का झक्कास ऑर्केस्ट्रा.
‘खुली पलक में झूठा गुस्सा’ – वाकई जीना भी मुश्क़िल मरना भी मुश्क़िल कर दिया था एस-जे ने.
‘मेरी मोहब्बत’, ‘एहसान तेरा होगा मुझपर’, ‘तुम मुझे यूँ भूला ना पाओगे’ – भावुक ‘शम्मी’ गीत.

कविराज १९६६ में तो जयभाई १९७१ में, शंकर जी, हसरत साहब से, अलविदा कहकर इस दुनिया से चल दिये … महफ़िल सुनी सुनी हो गई थी … शंकर जी तन्हा हो गए थे … पहली मुलाक़ात से १९७१ तक उन्होंने 
जयकिशन जी को अपने छोटे भाई की तरह संभाला था … जयसाहब – पल्लवी जी की शादी में ‘कन्यादान’ की रस्म शंकरजी ने ही पूरी की थी …जयभाई मिलनसार व्यक्ति थे, फुरसद में फ़िल्म जगत की पार्टियों में जाते थे … तो शंकरजी ज़्यादा उन व्यक्तियों से मिलते थे जो संगीत जगत से संबंधित थे … फुरसद में भी संगीत की बारीकियां सीखते रहते … दोनों १० – १२ वाद्य बजाना सीखें थे … शंकरजी कुश्ती के शौक़ीन थे और ‘भरत नाट्यम’ में महारत हासिल थी … दोनों दिलदार थे …सामाजिक कार्यों में हमेशा आगे रहते थे … जयभाई का साथ छूटने के बाद शंकरजी ‘एस-जे’ के नाम से ही संगीत देते रहे और उनके पारिश्रमिक का आधा हिस्सा पल्लवी जी को पहुंचाते रहे …आखरी दिनों में सब क़रीबी दोस्त दूर हो गए थे, लेकिन वोह एक बहादुर योद्धा
थे … अपने नाम के अनुसार ज़हर के घूंट पीते रहे …और अपना ग़म छुपाते रहे … हसरत साहब ही थे उनके साथ आख़री समय तक … २६ अप्रेल १९८७ को शंकर जी भी चले गए दुनिया से विदा लेकर और उनके साथ संगीत का सुरीला सफ़र ख़त्म हुआ … दास्ताँ खत्म हुई पर उनका संगीत अमर हैं, और सदियों तक रहेगा !
सच कहूँ तो … ‘एस-जे’, उनका अद्वितीय संगीत यह क़िताब का विषय है, उनके सभी गीतों का यहाँ ज़िक्र और मूल्यमापन करना असंभव बात है … १९४९ में शंकर – जयकिशन – कविराज – हसरत यह चार असामान्य कलाकार दुनिया के सामने आएं, राज कपूर साहब की बरसात में … बरसात से ही ‘संगीत सुवर्ण युग’ शुरू हुआ … अगले २० – २२ साल सर्वोत्तम हिंदी सिने गीत संगीत निर्मिती करके इन ‘FANTASTIC FOUR‘ ने उनके गीत -संगीत द्वारा अन्य संगीतकारों के मुक़ाबले, इस ‘सुवर्ण युग’ को सबसे ज्यादह चमक दी, ऐसा कहा जाएं, तो ज्यादती नही होगी … ‘कविराज’ शैलेंद्र – ‘राजकवि’ हसरत जयपुरी और अन्य गीतकारों ने आशयपूर्ण, समर्पक गीत लिख कर उन्हें समर्थ साथ दिली … एस-जे ने उनके संगीत निर्देशन में सभी गायिका/गायकों से बेहतरीन गंवाया था, उनकी आवाज़ का सही उपयोग किया था … लता, आशा, मन्ना दा, मुकेश, रफ़ी साहब, सुमन कल्याणपुर, शारदा जी इनके गायें गीत सर्वाधिक लोकप्रिय हुए थे मूल संगीत का ढांचा, नींव कायम रख कर, पारंपरिक साजों के साथ आधुनिक साजों का मिलाफ़ कर, गीतों को नया रूप देने वाले एस-जें ही थे, उनकी ज़्यादातर रचनाएँ रागदारी पर आधारित थी, गीत की प्रस्तावना (Prelude), मुखड़े और अंतरे के बीच का संगीत (Interlude), तथा गीत का अंत इन तीनों में मास्टर्स रहें, … हिंदी फिल्मों के ‘सुवर्ण संगीत युग’ के आधुनिक शिल्पकार, विविधतापूर्ण संगीत निर्मिती करनेवाले,
‘चक्रवर्ती संगीत सम्राट’ ‘एस-जें’ को, ‘कविराज शैलेंद्र’, हसरत साहब को सब संगीत प्रेमियों का सलाम …!

Sudhakar Shahane

Image may contain: 2 people, people playing musical instruments

आ अब लौट चलें … कैसे गूँजा शंकर जयकिशन का शानदार आर्केस्ट्रा? Aa Ab Laut Chalein

Courtesy :

http://www.ek-shaam-mere-naam.in/2018/06/aa-ab-laut-chalein.html

jdm

पुराने हिंदी फिल्मी गीतों में अगर आर्केस्ट्रा का किसी संगीतकार ने सबसे बढ़िया इस्तेमाल किया तो वो थे शंकर जयकिशन। हालांकि उनके समकालीनों में सलिल चौधरी और बाद के वर्षों में पंचम ने भी इस दृष्टि से अपने संगीत में एक अलग छाप छोड़ी। पर जिस वृहद स्तर पर शंकर जयकिशन की जोड़ी वादकों की फौज को अपने गानों के लिए इक्ठठा करती थी और जो मधुर स्वरलहरी उससे उत्पन्न होती थी उसकी मिसाल किसी अन्य हिंदी फिल्म संगीतकार के साथ मिल पाना मुश्किल है। शंकर जयकिशन का आर्केस्ट्रा ना केवल गीतों में रंग भरता था पर साथ ही इस तरह फिल्म के कथानक के साथ रच बस जाता था कि आप फिल्माए गए दृश्य से संगीत को अलग ही नहीं कर सकते थे।

मिसाल के तौर पर फिल्म  “जिस देश में गंगा बहती है” के इस सदाबहार गीत आ अब अब लौट चलें को याद कीजिए। 1960 में बनी इस फिल्म का विषय चंबल के बीहड़ों में उत्पात मचा रहे डाकुओं को समाज की मुख्यधारा में वापस लौटाने का था। इस फिल्म के निर्माता थे राज कपूर साहब। राजकपूर की फिल्म थी तो शंकर जयकिशन की जोड़ी के साथ शैलेंद्र, हसरत जयपुरी, मुकेश और लता जैसे कलाकारों का जुड़ना स्वाभाविक था। कुछ ही दिनों पहले सोशल मीडिया पर शैलेंद्र के पुत्र दिनेश शंकर शैलेंद्र ने इस फिल्म से जुड़ी एक रोचक घटना सब के साथ बाँटी थी। दिनेश शंकर शैलेंद्र के अनुसार

“राजकपूर ने फिल्म की पटकथा बताने के लिए शंकर, जयकिशन, हसरत और मुकेश को आर के स्टूडियो के अपने काटेज में बुलाया था। राजकपूर ने  फिल्म की कहानी जब सुनानी खत्म की तो कमरे में सन्नाटा छा गया। अचानक शंकर ने चाय का कप टेबल पर दे मारा और गाली देते हुए उस ठंडे, धुँए भरे कमरे से बाहर निकल गए। सारे लोग उनके इस व्यवहार पर चकित थे। फिर राजकपूर ने शैलेंद्र से कहा कि जरा देखो जा के आख़िर पहलवान* को क्या हो गया? कहानी पसंद नहीं आई? शैलेन्द्र शंकर के पास गए और उनसे पूछा कि मामला क्या है? शंकर ने गालियों की एक और बौछार निकाली और फिर कहा कि डाकुओं की फिल्म में भला संगीत का क्या काम है? बना लें बिन गानों की फिल्म, हमें यहाँ क्यूँ बुलाया है? शैलेंद्र ने उन्हें समझाया कि इस फिल्म में भी गाने होंगे। सब लोग वापस आए और कहानी के हिसाब से गीतों के सही स्थान पर विचार विमर्श हुआ और अंततः फिल्म के लिए नौ गाने बने।”

(*संगीतकार बनने से पहले शंकर तबला बजाने के साथ साथ पहलवानी का हुनर भी रखते थे 😊।)

तो बात शुरु हुई थी शंकर जयकिशन की आर्केस्ट्रा पर माहिरी से। आ अब लौट चलें के लिए शंकर जयकिशन ने सौ के करीब वायलिन वादकों को जमा किया था। साथ में कोरस अलग से। हालत ये थी कि तारादेव स्टूडियो जहाँ इस गीत की रिकार्डिंग होनी थी में इतनी जगह नहीं बची थी कि सारे वादकों को अंदर बैठाया जा सके। लिहाजा कुछ को बाहर फुटपाथ पर बैठाना पड़ा था। कहा जाता है कि इस गीत कि रिहर्सल डेढ़ दिन लगातार चली और इसीलिए परिणाम भी जबरदस्त आया।

आर्केस्ट्रा में बजते संगीत को ध्यान में रखते हुए निर्देशक राधू कर्माकर ने गीत की रचना की थी। ये गीत फिल्म को अपने अंत पर ले जाता है जब फिल्म का मुख्य किरदार डाकुओं को आत्मसमर्पण करवाने के लिए तैयार करवा लेता है। गीत में एक ओर तो डाकुओं का गिरोह अपने आश्रितों के साथ लौटता दिख रहा है तो दूसरी ओर पुलिस की सशंकित टुकड़ी हथियार से लैस होकर डाकुओं के समूह को घेरने के लिए कदमताल कर रही है। निर्देशक ने पुलिस की इस कदमताल को वायलिन और ब्रास सेक्शन के संगीत में ऐसा पिरोया है कि दर्शक संगीत के साथ उस दृश्य से बँध जाते हैं। संगीत का उतर चढाव भी ऐसा जो दिल की धड़कनों के  साथ दृश्य की नाटकीयता को बढ़ा दे। वायलिन आधारित द्रुत गति की धुन और साथ में लहर की तरह उभरते कोरस को अंतरे के पहले तब विराम मिलता है जब हाथों से तारों को एक साथ छेड़ने से प्रक्रिया से शंकर जयकिशन हल्की मधुर ध्वनि निकालते हैं। इस प्रक्रिया को संगीत की भाषा में Pizzicato कहते हैं। इस गीत में Pizzicato का प्रभाव आप वीडियो के 39 से 45 सेकेंड के बीच में सुन सकते हैं।

गिटार की धुन के साथ गीत गीत आगे बढ़ता है।  मुकेश तो खैर राजकपूर की शानदार आवाज़ थे ही, अंतरों के बीच कोरस के साथ लता का ऊँचे सुरों तक जाता लंबा आलाप गीत का मास्टर स्ट्रोक था। इस गीत में लता जी की कोई और पंक्ति नहीं है पर ये आलाप इतनी खूबसूरती से निभाया गया है कि पूरे गीत के फिल्मांकन में जान फूँक देता है। गीतकार शैलेंद्र की खासियत थी कि वो बड़ी सहजता के साथ ऐसे बोल लिख जाते थे जो सीधे श्रोताओं के दिल को छू लेते थी। गलत राह पे चलने से नुकसान की बात हो या समाज द्वारा इन भटके मुसाफ़िरों को पुनः स्वीकार करने की बात, अपने सीधे सच्चे शब्दों से शैलेंद्र ने गीत में एक आत्मीयता सी भर दी है। उनका दूसरे अंतरे में बस इतना कहना कि अपना घर तो अपना घर है आज भी घर से दूर पड़े लोगों की आँखों की कोरें गीला कर देगा।

आ अब लौट चलें, आ अब लौट चलें

नैन बिछाए बाँहें पसारे तुझको पुकारे देश तेरा

आ जा रे – आ आ आ

सहज है सीधी राह पे चलना

देख के उलझन बच के निकलना

कोई ये चाहे माने न माने

बहुत है मुश्किल गिर के संभलना

आ अब लौट चलें …

आँख हमारी मंज़िल पर है

दिल में ख़ुशी की मस्त लहर है

लाख लुभाएँ महल पराए

अपना घर फिर अपना घर है

आ अब लौट चलें …

इतना मधुर संगीत संयोजन करने के बाद भी ये गीत उस साल के फिल्मफेयर अवॉर्ड के लिए नामांकित नहीं हुआ। इसके संगीत संयोजन के बारे में शंकर जयकिशन पर आरोप लगा कि उनकी धुन उस समय रिलीज़ हुए इटालवी गीत Ciao Ciao Bambina से मिलती है। अगर आप वो गीत इटालवी में सुनें तो शायद ही आप इस साम्यता को पकड़ पाएँ। पर अलग से उस धुन सुनने के बाद तुझको पुकारे देश मेरा वाली पंक्ति गीत की धुन से मिलती दिखती है। पर इस हल्की सी प्रेरणा को नज़रअंदाज करें तो जिस तरह गीत को शंकर जयकिशन ने कोरस और लता के आलाप के साथ आगे बढ़ाया है वो उनके हुनर और रचनात्मकता को दर्शाता है।

jdmg