Monthly Archives: November 2018

All about shanker jaikishen

Shankar Jaikishan

 …Save

Shankar Jaikishan(also known as S-J), were a popular and successful Indian composer duo of the Hindi film industry, working together from 1949 to 1971. They are considered to be two of the best music directors of the Hindi film industry.[1] Later, Shankar continued to function as a Music Director alone, still giving music under the banner Shankar-Jaikishan, till 1987.

Shankar-Jaikishan, along with other artists, composed “everlasting” and “immortal melodies” in the 1950s, 1960s, and early 1970s.[2] Their best work was noted for being “raga-based and having both lilt and sonority”.[3]Early years
Shankar

Shankar Singh s/o ram singh (15 October 1922 – 26 April 1987) was from Hyderabad. During his formative years, Shankar played the tabla and learned the art formally from Baba Nasir Khansahib. For many years, Shankar studied as a disciple of the legendary composer Khawaja Khurshid Anwar, in whose orchestra he performed. As per latest knowledge un-earthed by SJ Fans Association International (SJFAI), contrary to the adverse propaganda that he was illiterate and never went to school, as per his surviving close relatives (families of his sisters), this is not true. In fact, Shankar had studied at Hyderabad and had passed 10th class, before moving to Bombay. A 10th class pass of pre-independence era cannot be considered to be illiterate by any means.

Shankar started his career with a theater group run by Satyanarayan and Hemawati, before shifting to Prithvi Theatre where he played tabla and performed some minor roles in plays. It was at Prithvi Theatre that he learnt to play and mastered several other instruments like Sitar, Accordion and Piano etc. Besides his work at Prithvi Theatre, he also started working as an assistant to the leading composer duo of Husnlal Bhagatram and nurtured the ambition of becoming an independent music director.Jaikishan

Jaikishan Dayabhai Panchal (4 November 1929 – 12 September 1971) belonged to Bansda (Vansada), Gujarat. Jaikishan was adept at playing the harmonium. Subsequently, he obtained his musical lessons from Sangeet Visharad Wadilalji and later from Prem Shankar Nayak. After moving to Mumbai, he became a disciple of Vinayak Tambe.Formation of the composer duo

Apart from working at Prithvi Theatre, Shankar used to frequently visit the office of a Gujrati director Chandravadan Bhatt who had promised Shankar a break as a Music Director when he produced a film. It was outside the office of Bhatt that Shankar saw Jaikishan a number of times. One day, he started a conversation and discovered that Jaikishan was a harmonium player, and that he too was visiting the same producer in search of work. Shankar later recollected that they developed a liking for each other and it was he who then and there assured Jaikishan of the job of a Harmonium player at Prithvi Theatre (without asking Prithviraj Kapoor, fondly referred to as ‘Papaji’). Papaji honoured Shankar’s selection and gladly accepted Jaikishan as a Harmonium player at Prithvi. Soon, the two of them developed very close friendship to the extent that the people started referring to them as ‘Ram-Lakshman ki jodi’ and by several similar-meaning nicknames. Apart from following their musical pursuits, they also used to play significant roles in various plays including the famous play “Pathan”.

While working in Prithvi Theatre, Shankar and Jaikishan used to compose tunes and were in touch with Raj Kapoor, who was working as an assistant to the famous director Kidar Sharma and was aspiring to be an actor/director. Thus, the three had met at Prithvi Theatre.Barsaat: the first break

Raj Kapoor made his debut as a director with the film Aag in 1948. Its music director Ram Ganguly was assisted by Shankar and Jaikishan. However, during the recording of a song for his new venture Barsaat, Raj Kapoor had some serious differences with Ram Ganguly and decided to assign its music to Shankar who insisted on taking Jaikishan as his partner. Thus came into existence the new pair of music directors named ‘Shankar-Jaikishan’ who composed the music for the film.

Himself being a trained singer (he and Mukesh learned vocal music from the same Guru), Raj Kapoor thus took on board a new team of composers Shankar and Jaikishan and lyricists Shailendra and Hasrat Jaipuri (a former bus conductor). On the insistence of Shankar, he and SJ co-opted the upcoming singing talent Lata Mangeshkar, and repeated Mukesh as Raj Kapoor’s ghost voice for the various songs of Barsaat.

The film also had the distinction of featuring two firsts in Hindi cinema — a title song (“Barsaat Mein Humse Mile”) and a cabaret (“Patli Kamar Hai”).Early works b/w 1949–1959

The two became known by the acronym “S-J”.

Their early works include BarsaatAwaara, Badal (1951 film), Poonam (1952 film), Nagina, Aurat, Parbat, Kaali Ghataa, AahPatitaShikastBadshah, Mayur Pankh, Naya Ghar, SeemaShree 420Basant Bahar, Halaku, RajhathNew DelhiKathputliAnariChori ChoriDaagBegunahYahudi, Main Nashe main hoon, Kanaiah, Boot Polish, Chhoti Behan, Sharaarat, Love Marriage, and Ujala.Musical collaborators

S-J formed a core team with lyricists Shailendra (himself regarded as perhaps the greatest of his ilk) and Hasrat Jaipuri and with singers Mohammed RafiLata Mangeshkar and Asha Bhosle. SJ had two other lifelong companions who worked as their assistants: Dattaram Wadkar and Sebastian D’Souza, the former supervising their rhythm section and the latter writing musical notations for all SJ compositions (during SJ’s musical sittings as can be seen in a number of photographs of such sessions) and then rehearsing all the musicians of the grand SJ orchestra according to SJ’s compositions and directions. SJ also patronized the immensely talented singer Manna Dey, who sang his best songs with them and used Mukesh’s silken voice as playback for Raj Kapoor. Among the directors, they worked most closely with Raj Kapoor and were considered the kingpins of his legendary banner RK Films.

They were commercial geniuses in addition to be wonderfully god-blessed in music. They led the Bollywood music in spite of tough competition from maestros like Naushad, C Ramchandra, Roshan, SD Burman, OP Nayyar, Salil Choudhury and Madanmohan and remained on the top much to the chagrin of very highly talented music directors!

S-J worked with almost all singers of their time. They had a good working relationship with all of them and were masters in extracting the very best from every one of them. They were steady as a team with Hasrat Jaipuri and Shailendra as their lyricists; but after the demise of Shailendra, they worked with a host of other lyricists such as IndeevarGulshan BawraGopaldas Neeraj, Verma Malik, Majrooh Sultanpuri, Vithhal Bhai Patel and Rajinder Krishan, to name a few.

S-J were the “house composers” for RK Films and were on their pay-roll till the end. Raj Kapoor used to maintain a music bank where he stored compositions of S-J. Even after the termination of the professional association between Shankar and Raj Kapoor (Jaikishan had died by then), the latter had used a number of S-J’s earlier compositions (which were in his custody) for all his films though the credits were given officially to other composers, e.g., Laxmikant Pyarelal (Bobby, Satyam Shivam Sundaram, Prem Rog) and Ravindra Jain (Ram Teri Ganga Maili). S-J also worked with other stars like Shammi KapoorRajendra KumarDev AnandSunil DuttKishore KumarManoj KumarBiswajeetJoy MukherjeeDharmendra & Manoj Kumar. Beside them S-J combo worked above all of with Mohd Rafi and secondly Mukesh, and produced numbers of hits and unmatchable gems. Mohd Rafi was their favourite singer despite having good reputation with other playback singers of its time.

Most of S-J’s films show Dattaram and Sebastian as their assistants. Dattaram handled the percussion section of the orchestra while Sebastian handled the rest. Dattaram met Shankar in a Gym when the latter was already working at Prithvi Theatre as a musician. After listening Shankar’s Tabla at the Gym and being highly impressed by his virtuosity, Dattaram became his disciple and remained with S-J throughout. As recalled by Dattaram,[4] Sebastian used to write the musical notations of S-J’s compositions and also conducted the orchestra. Thus, S-J were fortunate to have top quality assistants and used their talents well.Composition style

Statue of Jaikishan at Bansada near Valsad, Gujarat (Jaikishan’s native town).

Shankar-Jaikishan’s compositions broke new ground in Hindi film music. Apart from relying upon their knowledge of Indian classical music, they also employed western beats and orchestration. Shankar-Jaikishan were the pioneers in establishing the role of the orchestra in song compositions as a medium to express and enhance the meanings and feelings of songs rather than using it just as a `filler’ as per the prevalent practice before their advent on the scene. They made use of the orchestra and musical instruments (often dozens or hundreds of them) in their songs which consisted of the following format: The song starts with a `prelude’ (preparatory music to create and introduce the environment and mood for the beginning of the song), then the mukhda starts and is followed by ‘interlude’ containing music pieces on the orchestra. With very few exceptions (“Ye mera deewana pan hai” is a good example), they always used different interludes before each stanza. ‘Multi-layered music studded with counter melodies’ played by the orchestra accompanied while the mukhda or the antara of a song was being sung and finally came the `epilogue’ – the music with which the song ended after the singer(s) had finished their singing.

Shankar-Jaikishan made a significant contribution in promoting Indian classical music throughout their career. It was their established practice to have at least one song in a movie based on semi-classical style. These included songs like `Jhanak-jhanak tori baje payaliya’ (Mere Huzoor), `Chham chham baje re payaliya’ (Jane-anjane), `Radhike tune bansari churayi’ (Beti Bete), `Manmohana bade jhoothe’ (old `Seema’), `Koi matwala aya mere dware’ (Love in Tokyo), `Ajahu na ayae baalma, sawan beeta jaye’ (Sanjh aur Savera), `Lapak jhapak tu aa re badarwa’ (Boot polish), `Ye barkha bahar sautaniya ke dwar’ (Mayur pankh), `Re man sur mein ga’ (Lal pathar), `Sooni sooni sans ke sitar par’ (Naina), `Kate na kate raina’ (Mera naam joker) and numerous others. Their music in both `Basant Bahar’ and Amrapali had every song based upon Indian classical music. While “raga Bhairavi” remained their perennial favorite, SJ used a variety of Raagas in their compositions.

Shankar Jaikishan also used the western classical-based waltz rhythm in a number of songs.

Shankar-Jaikishan gave a new style and meaning to the genre of sad songs by composing them on a fast tempo. Songs like “Zindagi Mein Hardam Rota Hi Raha” (Barsaat), “Tera Jana Dil Ke Armanon” (Anari), “Haye Tu Hi Gaya Mohe Bhool Re” (Kathputli), “Aye Mere Dil Kahin Aur Chal’ (Daag) and “Andhe Jahan Ke Andhe Raate” (Patita) demonstrated this. The last two songs, along with many others (notably “Awaara Hoon” from the film Awaara), also demonstrate the composers’ use of musical instruments – a harmonium is used to produce the effect of a piano accordion.Working styles: ‘SJ’ were two composers in one name
“We have never thought of the public as the ‘masses’, but as individuals who want the best from us”

Shankar Jaikishan in 1962.

While working as a team, Shankar and Jaikishan used to compose their songs separately. Generally, Shankar liked to work with Shailendra and Jaikishan with Hasrat Jaipuri though there are notable instances where Shankar worked with Hasrat and Jaikishan with Shailendra. Of course there are a number of songs done jointly in which both of them contributed. Between the two, Shankar was the senior partner and hence, he would usually arrange the orchestra, even for Jaikishan’s songs. There was a gentleman’s agreement between them for not identifying the actual composer of the song. As a result, it has been a popular pastime for S-J aficionados to try to tell a Shankar song from a Jaikishan song. Dance numbers, title/theme songs and soulful songs were Shankar’s forte while Jaikishan was a master of composing background score, apart from romantic songs (he is generally regarded as the best ever in this genre) and simple, catchy compositions which became instant hits (“Ehsaan Mere Dil Pe” being a typical example of such songs). However, Shankar was no smaller in this aspect of devising simple ‘straight line’ tunes: “Mera Joota Hai Japani” (Sri 420) being the best example of this genre.

It is said that Jaikishan would count some numbers on his fingers before coming up with the background score for a particular scene on the spot! Two of S-J’s films, viz., Sangam (1964) and Mera Naam Joker (1971) are regarded even today as having some of the best background musical scores of Hindi films till date. Although, by and large, it was Jaikishan who used to work on background music of SJ movies as per their mutually agreed division of work, it may be an over-simplification to presume that therefore, whatever went in background scores was solely Jaikishan’s creation. Since SJ had a common pool of tunes in their stock, made by either of them during their numerous music sessions/sittings (Riyaz), it was perfectly legitimate and natural for Jaikishan to have used tunes created by Shankar also wherever needed. This is also one of the reasons why he was able to finish this job in a few days’ time. It is understood that in RK films, Shankar and Jaikishan both used to work on the background scores. On the other hand, both Shankar and Jaikishan were equally proficient in scoring western music based songs.

Despite their distinct working styles and preferences, it is very difficult, if not altogether impossible, to ascribe most of their songs to only one of them. In most of the songs, they invariably contributed to one another’s creation, either in the form of improvisation of tune or of orchestration, thus, making their compositions truly a joint effort. Furthermore, each of the two could compose in the other’s style now and then thereby making the identification still more difficult.

Contrary to the popular mis-conception that ‘it was Jaikishan who used to handle the public relations and business/financial aspects of the duo’s career’, the fact is that it was Shankar who had the final say on all financial/business aspects of the SJ-team.Raaga-jazz style

SJ’s 1968 Indo-jazz album, Raaga- Jazz Style.

Shankar Jaikishan made a major contribution towards the development of jazz music in India and the new genre Indo jazz. Their 1968 album Raaga-Jazz style is the earliest Indo-jazz recording in India. In this album, considered to be one of the most innovative, SJ created 11 songs based on Indian Ragas with saxophonetrumpetsitar (by Rais Khan), tabla, bass etc.[5]Awards

During their career, S-J won Filmfare Best Music Director Awards nine times. The last three awards were won in three successive years, thereby making S-J the first composers to score a hat trick of these awards.

S-J also came out tops in Binaca Geetmala, the legendary countdown radio program on Hindi film music, where their compositions were declared the most popular on six occasions (a record later equalled by Laxmikant Pyarelal). These songs were “Mera Joota Hai Japani” in 1955 (Shree 420), “Teri Pyari Pyari Surat Ko” in 1961 (Sasural), “Ehsaan Tera Hoga Mujh Par” in 1962 (Junglee), “Bol Radha Bol” in 1964 (Sangam), “Baharon Phool Barsaao” in 1966 (Suraj), and “Zindagi Ek Safar Hai Suhana” in 1971 (Andaaz). In 1959, seven of the top ten songs for the year were composed by S-J, a sort of record that stands perhaps to this date, though the top honours for that year went to SD Burman.Government recognitions

  • 1968 – Shankar-Jaikishan was honoured with the Padmashri by the Government of India.[6]
  • 2013 – A postage stamp, bearing their face, was released by India Postto honour them on 3 May 2013.

Filmfare Awards

FILMFARE AWARD STARTED DURING 1954 FOR BEST MUSIC DIRECTOR 

Winner[7]

YearFilmLyricist(s)
1957Chori ChoriShailendraHasrat Jaipuri
1960AnariShailendra, Hasrat Jaipuri
1961Dil Apna Aur Preet ParaiShailendra, Hasrat Jaipuri
1963ProfessorShailendra, Hasrat Jaipuri
1967SurajShailendra, Hasrat Jaipuri
1969BrahmachariShailendra, Hasrat Jaipuri
1971PehchaanNeerajIndeevar, Varma Malik
1972Mera Naam JokerShailendra, Hasrat Jaipuri, Neeraj, Prem Dhawan
1973Be-ImaanVarma Malik

Nominated

YearFilmLyricist(s)
1959YahudiHasrat Jaipuri, Shailendra
1960Chhoti BahenHasrat Jaipuri, Shailendra
1962Jis Desh Mein Ganga Behti HaiHasrat Jaipuri, Shailendra
1964Dil Ek MandirHasrat Jaipuri, Shailendra
1965SangamHasrat Jaipuri, Shailendra
1966ArzooHasrat Jaipuri
1969DiwanaHasrat Jaipuri, Shailendra
1970Chanda Aur BijliNeeraj, Indeevar
1972AndazHasrat Jaipuri
1975Resham Ki DoriNeeraj, Indeevar
1976SanyasiVithalbhai Patel, Varma Malik, Vishweshawar Sharma, Hasrat Jaipuri, M G Hashmat

The Sur-Singar Awards

Winner

  • 1968 – For the song “Jhanak Jhanak Toree Baje Payaliya” of the film Mere Huzoor
  • 1971 – For the song “Re Man Sur Mein Ga”of the film Lal Patthar

Bengal Film Journalists’ Association Awards

Winner

  • 1968 – Best Music Director for the film Brahmachari[8]
  • 1971 – Best Music Director for the film Andaz[9]

Alleged disputes between Shankar and Jaikishan

In a signed article in Filmfare, Jaikishan identified unwittingly the song “Yeh Mera Prem Patra Padh Kar” (Sangam) as his composition. This led to a lot of bitterness between the two, as Shankar considered it a violation of the unwritten agreement between them. At about the same time, Shankar gave a break to singer Sharda and started promoting her as the new singing sensation in preference over Lata Mangeshkar. Jaikishan, however, stuck to Lata Mangeshkar for his compositions. In this period, Shankar and Jaikishan started taking individual contracts for films though every such film continued to show them together as the composers. Mohd. Rafi intervened and helped them settle their differences; however, it is conjectured that their relationship was not the same as earlier and this impacted the quality of their compositions which had started exhibiting a decline (which is clearly noticeable in the movies released during the last phases of Jaikishan’s lifetime and those released just after his demise).

On the other hand, Jaikishan, Hasrat and Shankar all had denied, whenever quizzed on this topic, that there ever was any rift between them. In fact, according to Hasrat, the division of work was by mutual agreement to cope up with the heavy work load so that Shankar and Shailendra looked after one part of the work while Jaikishan and Hasrat on the other part but this division was not rigid; there was a lot of give and take between them even during this phase. Towards the end (just before Jaikishan’s untimely demise), in several of their last movies such as Jane Anjane (1971), Andaaz (1971), Ankhon Ankhon Mein, Shankar and Jaikishan were known to be working together. In retrospect, it appears that the so-called rift between Shankar and Jaikishan was blown out of proportion by the media and vested interests and was used later to downgrade Shankar in his post-Jaikishan years.

Since Shankar continued to support Sharda (post Sangam era) and even ghost-composed music for her film and non-film albums, it is said that Lata Mangeshkar became angry with him and discontinued singing for him. Whereas there may be some truth in this assertion, the other fact is that Lata Mangeshkar had stopped working with him after Sangam due to her anger against both Raj Kapoor and Shankar in making her sing “Budhha Mil Gaya” from Sangam which she was not keen as she did not feel comfortable with the lyrics of the song. Nevertheless, she continued singing for Jaikishan even after Sangam and till the end.Standing in the industry

S-J enjoyed an unrivalled position in the Hindi film industry. During their heyday and even toward the later part of their career, they were the highest paid music directors in the industry. Barring stray exceptions, they were paid more than the leading actors and the promotional material of their films would give them more prominence than anyone else.

S-J staged a show in Shanmukhanad Hall, Mumbai in 1970 under the aegis of the Indian Navy. In terms of attendance and grandeur, it remains unsurpassed to this day, thus providing a public seal of approval to their leading status in the industry.Jaikishan’s death and SJ’s post-Jaikishan era
“What can I say… my musical partner in life has gone, what is left of me to say anything more, I had never thought that at such an early age he would leave us all and go; Anyway his good qualities of maintaining goodwill, giving love and receiving love were innate in him and I too don’t have them in me. He used to regularly remind me of my innate quality of being in a boisterous mood all the time and always abrasive with some one or the other and so on and so forthwith…….”

Shankar on Jaikishan’s death in an interview with Ameen Sayani.

Jaikishan died in 1971 due to cirrhosis of liver, a disease caused by excessive consumption of alcohol. At the time of his death, the duo enjoyed an unparalleled popularity which was underlined by a massive turnout at his funeral procession. Gaylord, a restaurant at Churchgate (Mumbai) where Jaikishan used to be a regular visitor, mourned the death of its illustrious patron by lighting a candle on his favorite table for one month and keeping it out of bounds for other guests with the sign “Reserved for Mr. Jaikishan”.

After Jaikishan’s death, Shankar carried on with the banner of Shankar-Jaikishan alone (as per their mutual understanding made during their lifetime that in case of the demise of any one of them, the surviving partner will continue to work with the same team name). He was clearly hampered by numerous reasons such as the departures of his soul-mate Jaikishan and his favourite lyricist Shailendra, the betrayal of Raj Kapoor, continued Shankar-bashing and false propaganda by his rivals and lack of motivation on his own part due to which his music appeared to suffer in comparison to S-J’s own high standards. Also, in spite of his continued experimentation on music, the projects themselves for which he worked did not turn out to be commercial successes due to which even his good scores went largely unnoticed.

According to Lata Mangeshkar herself, it was the late Mohd. Rafi who brought about a rapprochement between the two and she did start singing again for Shankar starting from Sohan Lal Kanwar’s `Sanyasi‘ and several other films later. Although Shankar’s creations during this period for Lata as well as other singers like Rafi, Kishore, Manna Dey were quite good, most of these went unnoticed due to non-descript status of such films which bombed at the box office. His most-successful musical hit was Sanyasi in 1975 for which he scored all songs and the entire background score based upon SJ’s favorite Raag Bhairavi to prove the point that SJ’s Bhairavi was as much Shankar’s as that of Jaikishan.

After Sanyasi, although some of Shankar’s later songs did exhibit flashes of the old maestro’s brilliance, overall, these films (Aatmaram, Do-Jhooth, Garam Khoon, Papi Pet Ka Sawal Hai, Chorni, Eint ka Jawab Pathar) did not succeed in endearing him to leading production houses, though there were some exceptions. For example, actor Dharmendra had signed Shankar to compose the score for his film Bichchoo, however, since Shankar did not accept Sai’s (who was more keen in having Raj Kamal as MD) interference in his work, he opted out of the project. Eventually, the project itself was abandoned by Dharmendra.

Shankar was in the running for Raj Kapoor’s film Satyam Shivam Sundaram(1978), but was overlooked in favour of Laxmikant Pyarelal whose candidature was supported vigorously by Mukesh. Ironically, Mukesh owed his standing in the film industry primarily to S-J’s compositions.

Shankar was also considered for Raj Kapoor’s proposed film Param Vir Chakra (his case was supported by Raj Kapoor’s sons), but the project did not see the light of day and Shankar never returned to the RK camp.Shankar’s death

Shankar died in 1987. His death received nominal media coverage and his funeral was attended only by his family and some friends. The film industry was hardly represented at his funeral , thus reinforcing the stereotype of its fickle-natured loyalties.

Raj Kapoor later paid glowing tributes to the colleague of his salad days in a televised interview. However, it was only after Raj Kapoor’s own death in 1988 that the significance of his association with Shankar Jaikishan was brought out in great detail.

A prominent crossroad junction at Churchgate, Mumbai has been named after Shankar-Jaikishan.

Chandrakant Bhosle first noticed Shankarji, as Shankar was popularly known among his friends, in Mumbai in 1945 when Shankarji arrived in Mumbai with balle troup of guru Krishnankutty and dancer Hemawati. Bhosle was a ‘tabla’ player and had become closely associated with Shankarji. He used to play ‘rhythm’ in Shankarji’s orchestra from 1945 until Shankarji’s death. A night before Shankarji’s death, i.e. on 25 April 1987 Shankarji dropped Bhosle near Charni Road railway station where Bhosle stayed and drove off to his own residence at Churchgate. On 26 April Bhosle was, as usual, waiting for Shankarji at around 10.00 a.m. to take him to the studio, but Shankarji did not turn up so Bhosle went to the studio by taxi. All the musicians waited the whole day for Shankarji in the studio but he did not turn up. The next day, Bhosle read the news of Shankarji’s death. Unfortunately, family members with whom Shankarji was staying did not inform Bhosle, Raj Kapoor or anybody from the film fraternity about Shankarji’s death.

It was Mr. Gokhale, who was once a cook in Shankarji’s house, who later became Pujari in Gora Ram Mandir at Thakurdwar, Mumbai, who informed people that Shankarji was cremated hastily on the day of his death, without the knowledge of others.Achievements

Discography
References and further reading

  1. “Shankar Jaikishan Emperors of Music | Bollywood | Cinema Of India”. Scribd. Retrieved 25 January 2018.
  2. “Proms – Programme Notes”. BBC. 12 September 2009. Retrieved 25 February 2012.
  3. Chatterjee, Partha (16–29 June 2007). “A master’s voice”. Frontline. Vol. 24 no. 12. Retrieved 29 October 2009.
  4. Masti Bhara Hai Samaa, Dattaram reminisces. Youtube
  5. Atkins, E. Taylor (2003), Jazz planet, University Press of Mississippi, 1578066093
  6. Govt. of India, Padma Shree Awardees. india.gov.in
  7. “Best Music Directors”. Filmfare. Archived from the original on 18 April 2005. Retrieved 27 October 2009.
  8. “1969– 32nd Annual BFJA Awards – Awards For The Year 1968”. Bengal Film Journalists’ Association. Archived from the original on 18 February 2009. Retrieved 27 October 2009.
  9. “1972– 35th Annual BFJA Awards – Awards For The Year 1971”. Bengal Film Journalists’ Association. Archived from the original on 27 May 2009. Retrieved 27 October 2009.
  10. “100 Greatest Bollywood Soundtracks Ever – Part 4”. Planet Bollywood. Retrieved 6 March 2012.

Further reading

  • Slobin, Mark, ed. (2008). Global Soundtracks: Worlds Of Film Music. Wesleyan University Press. ISBN 978-0-8195-6882-3.
  • Nerurkar, Vishwas (2009). “Saat Suron Ka Saath – Shanker-Jaikishan”.
  • Joshi, Padmanabh (2001). Shanker-Jaikishan: Sadabahar Film Sangeetna. Yugsarjak.

External links

Wikimedia Commons has media related to Shankar Jaikishan.

Courtesy https://www.revolvy.com/page/Shankar-Jaikishan

Advertisements

“जिंदगी एक सफर है सुहाना यहां कल क्या हो किसने जाना” स्व.जयकिशन

Courtesy : मायापुरी अंक 53,1975

जिंदगी एक सफर है सुहाना यहां कल क्या हो किसने जाना? ‘अंदाज’ का यह मार्मिक गीत जब कभी सुनायी पड़ता है तो आंखो के सामने उस गीत को जिंदगी के सुरों में बांधने वाले संगीत-निर्देशक स्व. जयकिशन का हंसता-मुस्कुराता व्यक्तित्व उभर उठता है। मृत्यु के कुछ ही दिनों पूर्व अनजाने में उन्होंने इस गीत को इस तरह सुरों में बांधा जैसे यह उनकी आत्मा का संगीत है।
इसी तरह न जाने कितने गीत हैं जो स्व. जयकिशन की समृतियों को सजल करते हैं और उस युग की याद दिलाते हैं जब फिल्म संगीत क्षेत्र में शंकर-जयकिशन की जोड़ी की दृंदभी बजती थी। जहां शंकर जयकिशन वहां संगीत की महफिल और जहां संगीत की महफिल वहां शंकर-जयकिशन की जोड़ी…
और कब..!
अब लगता है फिल्म संगीत के वाद्य रूठ गये हैं। स्वं. जयकिशन वाद्यों के मसीहा थे। वे दिन-रात उन्हीं में खोये रहते थे। दिन-रात कुछ न कुछ नये प्रयोग करते रहते थे भारतीय लोक-गीतों में प्रयुक्त वाद्यों के बारे में उन्होंने जितनी खोज की उतनी शायद ही और किसी संगीत-निर्देशक ने की हो। ‘आवारा’ में शंकर जयकिशन की जोड़ी ने एक सौ से अधिक वाद्यों का अनोखा उपयोग कर फिल्म संगीत को नया मोड़ दिया था जो आज भी अनेक संगीत-निर्देशकों के सामने साहसिक उदाहरण बना हुआ है।
सन 1968 में एक फिल्मी पत्रिका में संगीतकार जयकिशन द्वारा आरकेस्ट्रा का अभिनव प्रयोग के शीर्षक से एक समाचार छपा था। उसमें लिखा था कि संगीत-निर्देशक जयकिशन ने भारतीय संगीत को अंतर्राष्ट्रीय धरातल पर लोकप्रिय बनाने की दिशा में एक अभूतपूर्व रचनात्मक कदम रखा है। वे भारतीय राग-रागिनियों की विभिन्न संगीत रचनाओं के लिए पश्चिमी संगीत में प्रयुक्त होने वाले वाद्यों का उपयोग करेंगे। जयकिशन एक लंबे अर्से से किसी ऐसी विधि की खोज में जुटे हुए थे जिससे कि भारतीय संगीत अपनी विशिष्टता, मधुरता एवं सूक्ष्मता खोये बिना, पश्चिमी संगीत रसिकों के लिए बोधगम्य हो सके।
इसी संदर्भ में एक बार स्वयं जयकिशन ने बातचीत में कहा कि, हमने अपने यहां प्यानों, गिटार, वॉयलिन, मैण्डोलिन जैसे पश्चिमी वाद्यों का खूब प्रयोग किया है और तब भी हम पाते हैं कि हमारे संगीत की भारतीयता सुरक्षित है। इसी आधार पर मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचता हूं कि आरकेस्ट्रा का पूर्ण पश्चिमीकरण कर दिया जाये और तब भारतीय रागों को अलंकृत किया जाय तो संभवत: पश्चिमी लोक मानस उन्हें जल्दी और सहज ही समझ सकेगा…
दम भर जो उधर मुंह फेरे ओर चंदा, घर आया मेरा परदेसी, हम तुमसे मोहब्बत करके सनम.. ऐसे गीत थे जिन्होंने आम दर्शकों को प्लावित कर दिया था। लता मंगेशकर का कहना है कि शंकर जयकिशन के निर्देशन में उनका गाया यह गीत आ जाओ तड़पते हैं अरमां अब रात गुजरने वाली है उनकी जिंदगी के प्रिय गीतों का एक प्रिय गीत है और जब भी उन्हें अपनी मनपसंद गीतों की चर्चा करनी होती है तो यह गीत अनायास उनके होठों पर फड़क उठता है और उनकी आंखे अपने आप बंद हो जाती हैं।
शंकर जयकिशन की जोड़ी सूर्यरथ के घोड़ो की तरह जुड़ी हुई थी। वह दिन कितना शुभ रहा होगा जब वे दोनों अपनी अपनी मंजिल की खोज में भटकते हुए मिले और जब मिले तो इस अहसास से मिले जैसे उनका जन्म-जन्मांतरों का साथ संबंध है और वे दोनों जुड़वे भाई हैं।
शंकर जी हैदराबाद से मुंबई आये थे और जयकिशन बलसाड़ से मुंबई आये। शंकर मुंबई आने के पूर्व तबला वादक थे और जयकिशन.. जयकिशन तो जैसे संगीत की मिट्टी में ही पलकर बड़े हुए हो, ऐसा लगता था। खुद बहुत अच्छा गा लिया करते थे, खुद बहुत अच्छा बजा लिया करने थे, एक नहीं अनेक वाद्य खुद बैठे बैठे धुन तैयार कर लिया करते थे। शंकर हैदराबाद में अनेक नर्तकियों के साथ कार्य कर चुके थे। संगीत-महफिलों में उनका नाम था.. पर जयकिशन मन ही मन संगीत के साधक बने हुए थे।
मुंबई में आकर जयकिशन को काफी भटकना पड़ा। एक बार उन्होंने बीते दिनों की याद करते हुए मुझे कहा था मुंबई जैसी महानगरी में जब तक मुफलिस के मौलवी की तरह न रहे, कुछ काम बनता नहीं। मैंने खुद न जाने कितने दिन चने मूंगफली फांक कर फाका मस्ती की है। न जाने कितने दिन उसल-पाव(डबलरोटी और चना जो मुंबई के गरीबों का खाना है) पर गुजारे हैं। पर वे दिन भी क्या थे? केवल गुनगुना कर जिंदगी का गम अमृत बना दिया करते थे।
कई दिनों तक भटकने के बाद जयकिशन को नौकरी भी मिली तो लड़की की पेटियां बनाने वाले कारखाने में। जिंदगी की यह कैसी विडम्बना! पर यहां भी पेंटियों की आवाज के बीच भी वे संगीत ढूंढने लगे। हथोड़ों की चोट में भी उन्हें धमकता-धमकाता, घहराता-थिरकता संगीत नजर आया। यहां उन्होंने कारखाने की उस विचित्र एंव पसीने बहाने वाली जिंदगी के बीच भी कई धुनें बनाली। वे धुनें ऐसी थी जो बाद में बहुत काम आयी और उनके संगीत के साथ जैसे आम लोगों की जिंदगी की धुनें और धड़कन बन गयी।
जयकिशन को कारखाने से जब भी अवकाश मिलता प्रोड्यूसरों के पास जाते अपनी धुनें सुनाते और बड़े आत्मविश्वास से कहते, जरा आज़मा कर देखों, वे बड़े आत्मविश्वास के साथ किसी भी तरह की परीक्षा के लिए हर वक्त तैयार रहते थे और यही उनकी जिंदगी की सबसे बड़ी खूबी थी जो बाद में उनके व्यक्तित्व में महक उठी थी।
उन्हीं दिनों की बात है….!
शंकर जी थियेटर्स से संबधित हो चुके थे। पर उन्हें बाहर कार्य करने की स्वतंत्रा थी। इसी स्वतंत्रा का लाभ उठाकर वे गुजराती के प्रसिद्ध नाटककार चन्द्रबदन भट्ट के यहां पहुंचे जिन्होंने फिल्म बनाने की घोषणा की थी। जिस दिन वे वहां पहुंचे उसी दिन सौभाग्य से जयकिशन भी पहुंच गये। वहीं दोनों की पहली मुलाकात हुई जो पहले दोस्ती में बदली, फिर भाईचारे में बदली.. और जिंदगी की यारी में बदली और आगे चलकर फिल्म संगीत क्षेत्र में शंकर-जयकिशन की अटूट जोड़ी बनी।
शंकर ने अपने प्रयासों से जयकिशन को अपने पास पृथ्वी थियेटर्स में ही 75 रूपये मासिक वेतन पर नियुक्त करवा दिया। वहीं दोनों साथ-साथ काम करने लगे और अवकाश पाते ही दोनों मिलकर संगीत रचना में जुट जाते।
शंकर जयकिशन की जोड़ी पृथ्वी थियेटर्स में कार्य करने वाले सभी लोगों के लिए आकर्षण का केन्द्र बन गयी थी उन दिनों राजकपूर भी वही काम करते थे। उन्होंने ध्यान से दोनों की संगति-साधना को देखा। वे मन ही मन उनसे प्रभावित हुए।
एक दिन बैठे ही बैठे जयकिशन ने अपनी बनायी हुई एक नयी धुन राजकपूर को सुनायी। वे इस धुन पर इतने प्रभावित हो गये कि उन्होंने फट से उनसे मिलाकर वायदा कर लिया कि वे जब कभी फिल्म बनायेंगे उन्हें जरूर संगीत-निर्देशन का अवसर देंगे!
और वह समय आया कि राजकपूर फिल्म बनाने की सोचने लगे। ऐसे वक्त अवसर लोग पुराने वायदे भूल जाते हैं। पर राजकपूर उस वायदे को नहीं भूले। उन्होंने शंकर जयकिशन को बुलाया और ‘बरसात’ के लिए के लिए धुनें बनाने के लिए निमंत्रण दिया…!
बस फिर क्या था… जयकिशन ने धुनों की बरसात कर दी। ‘बरसात’ के गीतों की रिकॉर्ड हुई तो सारी फिल्मी दुनिया में शंकर-जयकिशन और उनके गीतकार शैलेन्द्र और हसरत जयपुरी के नाम चमक उठे।
‘बरसात’ फिल्म प्रदर्शित होते ही फिल्म संगीत क्षेत्र में यह चौकड़ी ऐसी जमीं ऐसी जमीं कि लोग देखते रह गये। ‘बरसात’ के गीत ‘जिया बेकरार है’ छायी बहार है, हवा में उड़ता जाये मेरा लाल दुपट्टा मलमल का, छोड़ गये बालम मुझे आज अकेला छोड़ गये, बरसात में हम से मिले तुम सनम तुम से मिले पतली कमर है तिरछी नज़र है.. गली कूंचो में गूंजने लगे. इतना ही नहीं, आज भी जब ये गीत सुनायी पड़ते है तो दिल को छूते है और उन गीतों के साथ थकी हारी जिंदगी भी रोमांटिक मूड में डूब कर मुस्करा उठती है।
‘बरसात’ की तरह ‘नगीना’ के गीत भी घर-घर गूंज उठे। फिर आयी बादल और अमय चक्रवर्ती की प्रसिद्ध फिल्म ‘दाग’ जिसमें दिलीप कुमार और निम्मी की जोड़ी थी।
इन फिल्मों के गीत आम दर्शकों की धड़कन बन गये थे। इन गीतों से पर युवा युवातियों के दिल मचलने लगे थे। इन गीतों से इनकी प्रतिष्ठा काफी ऊंची चढ़ गयी थी कि उस पर राज कपूर की ‘अवारा’ ने तो फिर चार चांद लगा दिये। ‘अवारा’ के गीत
आवारा हूं या गर्दिश में हूं आसमान का तारा हूं.. धरती से उठ कर आकाश तक देश की सीमाओं से पार विदेशों में भी गूंज उठे। ‘आवारा’ में जयकिशन ने वाद्यों के प्रयोग में अपनी सारी प्रतिभा को कसौटी पर कस दिया था। स्वंय राजकपूर का कहना है कि उन दिनों जब मैं जयकिशन को देखता था तो कभी-कभी सिहर उठता था। इसी तरह धुन बनाने में नये-नये प्रयोग में वह डूबा रहा तो कहीं अपने आप से बेखबर न हो जाये। उसकी कल्पना, तल्लीनता और श्रम साधना से मैं खुद द्रवित हो उठा और फिर एक दिन जयकिशन के कंधो पर हाथ रख कर कुछ कहने जा रहा था कि मेरी आंखे सजल हो उठी। इतनी खुशी थी… इतनी खुशी थी कि कुछ बोल भी मेरे मुंह से नहीं निकल पाये।
जब तक जयकिशन जीवित रहे, राजकपूर के साथ शंकर जयकिशन की जोड़ी फलती-फूलती रही। राज कपूर की हर फिल्म जयकिशन चुनौती मानते थे। राजकपूर की ‘श्री 420’ और बूट पॉलिश की अपार सफलता के पीछे उसके संगीत का बहुत बड़ा और गहरा हाथ है। और उस संगीत रचना में भी जयकिशन का गहरा हाथ है।
राजकपूर के बारे में जयकिशन प्राय: कहा करते थे कि, सच तो यह है कि राजकपूर ने हमें बनाया और उनकी फिल्मों ने हमारे संगीत को तराशा कुछ भी हो राजकपूर के साथ शंकर जयकिशन की जोड़ी का तालमेल कुछ इस तरह बैठा जैसे वह भी कोई प्रभू की लीला हो।
जयकिशन जब तक जीवित रहे। तब तक धुनें बनाते रहे। पाश्चात्य संगीत को भी अपनी धुनों में ढाला तो नये अंदाज तो नये अंदाज के साथ वे हमेशा निर्माताओं से यही कहा करते थे कि फिल्में जनता की है। इसलिए संगीत भी जनता का होना चाहिए। इस विचार धारा। के बावजूद कथा कहानी के अनुसार जब भी अवसर मिलता वे शास्त्रीय संगीत का सहारा लिये बिना नही रहते। शिकस्त के गीत.. कारे बदरा तू न जा न जा सपनों की सुहानी दुनियां का आंखो में बसाना मुश्किल है अपने शास्त्रीय संगीत के कारण ही लोकप्रिय हुए थे बसंत बहार में उन्होंने शास्त्री संगीत को उसके सही अर्थ में इस तरह प्रतिष्ठित किया कि उनके आलोचक भी खामोश हो गये। इस फिल्म के गीत भव भंजना वन्दना सुन हमारी, दुनिया न भाये भोहे अब तो बुलाले चरणों में केतकी गुलाब जुही चम्पक जुही चम्पक बन फूले नैन मिले चैन कहा, आज भी शास्त्रीय संगीत की महफिलों में बड़े गर्व के साथ सुनाये जाते हैं। इसी तरह ‘राजहठ’ के ये गीत, मेरे सपनों में आना रे, सजना, आये बहार बनके लुभा के चले गये, नाचे अंग-अग तेरे बाजे रे मृदंग बाजे, यह वादा करो चांद के सामने कहां से मिलते मोती, आंसू है मेरी तकदीर संगीत की दृष्टि से आज भी उच्चकोटि के माने जाते हैं। और जब जिस देश में गंगा बहती है गीत गलियों में गूंजे तो संगीत प्रेमी शंकर जयकिशन की संगीत साधना की सफलता देखकर चकित रह गये। ओ वसंती पवन पागल यह गीत आज भी श्रोताओं के मन में सिहरन पैदा कर देता है।
जयकिशन समय के साथ बदलते रहे और निर्माताओं की मांग के अनुसार फिल्मों में नयी नयी धुनें देते रहें। जंगली में पहली बार उन्होंने पाश्चात्य शैली में थिरकता संगीत दिया जिसकी नकल अब जोरों से की जा रही है। चाहे मुझे जंगली कहे कहने दो जो अब कहता रहे, कश्मीर की कली हूं मैं मुझ से न रूठो बाबूजी अइ अय्या करूं मैं क्या.. इन गीतों के थिरकते मचलते संगीत ने भारतीय फिल्मों के संगीत को नयी दिशा देकर उसे कुछ विवादस्पद भी बना दिया..
स्व. जयकिशन की राजकपूर की फिल्मों को छोड़ कर अन्य उल्लेखनीय फिल्में हैं, ‘उजाला’ ‘सिंगापुर’ ‘ब्यॉयफ्रेंड’ ‘करोड़पति’ ‘आस का पंछी’ ‘बादशाह’ ‘पूनम’ ‘सीमा’ ‘पतिता’ ‘यहूदी’ ‘लव मैरिज’ ‘जंगली’ ‘हरियाली और रास्ता’ ‘अनाड़ी’ ‘एक फूल चार कांटे’ ‘दिल अपना और प्रीत परायी’ ‘ससुराल’ ’प्रोफेसर’ ’ब्रह्माचारी’ ’छोटी बहन’ ’तीसरी कसम’ ’अंदाज’ आदि। राजकपूर की वे सारी फिल्में जिनमें उन्होंने संगीत दिया है भारतीय फिल्मों के इतिहास में माइल स्टोन बन चुकी है जिसका बहुत कुछ श्रैय उनके संगीत को है।
सन 1956 में उन्हें फिल्म ‘चोरी चोरी’ पर सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशक का फिल्म अवार्ड मिला। यह अवार्ड उन्हें ‘अनाड़ी’ ‘दिल अपना और प्रीत परायी’ ‘प्रोफेसर’ ‘शर्त’ ‘ब्रह्माचारी’ फिल्मों के लिए भी मिल चुका है। वे अब तक 125 से अधिक फिल्मों में संगीत दे चुके हैं।
जयकिशन अपने साथी शंकर से छोटे थे। पर ते बड़े खूबसूरत बांके और दिलदार। मुंबई के प्रसिद्ध गेलार्ड रेस्तरां में एक जमाना था जब उन्हीं का बोलबाला था। वे सबके आकर्षण के केन्द्र थे यहीं उनकी मुलाकात पल्लवी से हुई और प्रथम मुलाकात में ही वे दोनों एक दूसरे के हो गये।
जयकिशन को सन् 1969 में पद्म श्री से विभूषित किया गया। इतना ही नही, अनेक सार्वजनिक संगीत समारोहों में उनका अनेक बार स्वागत किया गया। उन्हें संगीत के साथ अभिनय का भी शौक रहा है फिल्म ‘श्री 420’ और मैं सुंदर हूं में उन्होंने छोटी-छोटी भूमिकाएं भी की थी।
आज हमारे बीच जयकिशन नहीं है। हमारे साथ उनकी मधुर यादें हैं जो हमारे साथ उनके संगीत के सथ समय समय पर महक उठती है। जब हम किसी फिल्म समारोह में उनके दो पुत्र और पुत्री को देखते हैं तो आंखे सजल हो उठती है। करूणा से विहल मन बार-बार सोचता है
काश! हमारे बीच जयकिशन होते।

http://www.mayapuri.com/music-director-jaikishan-special-article-by-mayapuri/

मैंने दिल तुझको दिया 🌷 

🌷डॉ राजीव श्रीवास्तव

उत्सव का उल्लास और दर्द की व्यग्रता का व्यापक व्योम लिये कोई एक कालजयी सहगान यदि चित्रपट पर प्रथम और अभी तक का अन्तिम गान कहा जायेगा तो उस एक गीत विशेष के लिये समस्त संगीत प्रेमी समवेत स्वर में स्वतः ही कह उठेंगे – मैंने दिल तुझको दिया।

निर्माता-निर्देशक-नायक राजकपूर की फ़िल्म ‘श्री चार सौ बीस’ का सहगान सिने संगीत में सृजित हुआ अभी तक का सर्वथा अनूठा गान है। फ़िल्म के दृश्य के संग और उसके परे भी इस समूह गीत का श्रवण करते हुये गीत के शब्दों के समानान्तर दृश्य-परिदृश्य स्वतः ही आकार ग्रहण करने लगते हैं। ‘रमय्या, वत्ता वइय्या’ तेलगु भाषा में किसी को सम्बोधित कर उसे अपने निकट बुलाने का वाक्य है। रमैय्या, यहाँ आओ ! वास्तव में पूना जाते हुये राह में चाय-पानी के वास्ते जब राजकपूर अपने सखा मुकेश, हसरत, शैलेन्द्र, शंकर, जयकिशन के साथ रुके तो शंकर ने देखा कि वहाँ काम करने वाला एक बालक तेलगु भाषी है। सहज भाव से शंकर के मुख से निकला – ‘रमय्या, वत्ता वइय्या’। इसके पहले कि शंकर उस बच्चे से कुछ कहते निकट ही बैठे शैलेन्द्र ने बालक को देख कर कहा – ‘मैंने दिल तुझको दिया’। इस तरह जन्म हुआ उस अमर कालजयी गीत का जिसकी सृजन यात्रा पर आज मैं आप सभी को अपने संग लिये चल रहा हूँ।

https://www.youtube.com/watch?v=5mdjuBdrVjA

इस विशेष समूह गान में शंकर-जयकिशन ने सर्व प्रथम अपने सरगम का एक बिछौना बिछाया है, उस पर शब्द-भाव को सजा कर उसे अपने सुर-विन्यास के ओढ़ना से ओढ़ाया है। जिस प्रकार प्रकृति सृजन के पूर्व अनुकूल वातावरण का सुयोग रचती है तत्पश्चात् अपने शृंगार से सृजित कृतित्व को ओज प्रदान करती है कुछ उसी प्रकार शंकर-जयकिशन इस गान में अपनी प्रकृति के सहज प्रवाह से वह सब कुछ रचते गये हैं जो किसी रचना को प्राणवान बनाने के उपक्रम में स्वाभाविक रूप से अनिवार्य होते हैं।

गीत की संगीत यात्रा पर आपको ले चलने के पूर्व मैं यह बता दूँ कि इस विशेष गान की कथा को गढ़ने में मेरे लिये जिस व्यक्तित्व ने समुचित ‘वातावरण’ का निर्माण किया है वो मेरे मित्र कोलकाता के भाई कमल बेरिवाला हैं। मैंने कई माह पूर्व ही उन्हें इस गीत को इसके मूल रूप में प्रस्तुत करने का आग्रह किया था और आज ‘धनतेरस’ के पावन दिवस पर उन्होंने मुझे संगीत का यह अनमोल धन अन्ततः प्रेषित कर ही दिया। आइये, सुरीली यात्रा का श्री गणेश करते हैं।

धनवान और निर्धन के पृथक-पृथक उत्सवों का तुलनात्मक परिदृश्य लिये यह समूह गान सम्पन्न लोगों द्वारा आयोजित किये गये भव्य नृत्य गीत-संगीत के दैहिक भाव-भंगिमा के आकर्षक अंग-प्रत्यंग के प्रदर्शन से प्रारम्भ होता है। जन सामान्य के साधारण पृष्ठभूमि को अपने भीतर छिपाये फ़िल्म का नायक आधुनिक वस्त्र धारण किये सम्पन्नता का उपक्रम रचने का असफल प्रयास करता हुआ अन्ततः पश्चिमी संगीत के तीव्र वेग से आहत अपने निज आवेग के प्रवाह में बहता इस असहनीय घेरे से स्वयं को मुक्त करने के प्रयास में उस महल के परिसर से बाहर निकल आता है। संगीत का तीव्र वेग पीछे छूटता है और हृदय का अंतर्द्वंद उत्कट आलाप से ध्वनित हो उठता है। गीत के पूर्व प्रारम्भिक संगीत की पृष्ठ भूमि में मन की व्यग्रता को दर्शाता यह दीर्ध आलाप मन्ना डे के स्वर में गूँजता है। महल की भव्यता से निकल कर जन साधारण के उत्सव गान की दिव्यता को अपने में समाया सहगान ‘रमय्या, वत्ता वइय्या’ के आत्मिक आमन्त्रण से नायक का स्वागत करता है। शैलेन्द्र के शब्द-भाव को उल्लास और उत्सव के सरगम पर वेगमयी गतिशीलता से जिस प्रकार शंकर-जयकिशन ने मध्य संगीत में संयोजित किया है वह लता मँगेशकर और मु रफ़ी के संयुक्त स्वर लहरियों पर सवार हो कर चित्त को प्रसन्न भाव से ‘सुर-लय-ताल’ की संगत में झूमने को विवश कर देता है। ‘नैनों में थी प्यार की रौशनी’ के इस प्रथम अन्तरे में प्रेम की उलाहना है तो दूसरे अन्तरे में सोने चाँदी के दिल के मध्य दर्द की छाँव का सहज भाव समाहित है। परस्पर नोक-झोंक, छेड़-छाड़ और प्रेम की आतुरता का चित्रण करता यह गीत अपने सामूहिक भाव प्रदर्शन में किस प्रकार राह चलते पथिक को भी अपने में बाँध लेता है उसका अद्भुत चित्रण इस गान के दृश्य में प्रस्तुत किया गया है। किसी भी नगर-महानगर के समान मुख्य पथ के समीप बसी बस्ती में निवास कर रहे विभिन्न परिवारों के सदस्यों द्वारा प्रस्तुत इस सामूहिक उत्सव गान में वहाँ से आ-जा रहे पथिकों को भी इसमें सहज रूप से सम्मिलित होते देखना मन को आश्चर्य मिश्रित आनन्द से भर देता है। आपने कभी यदि अपने ही जीवन में ध्यान दिया होगा तो सम्भवतः आपको स्मरण होगा कि राह चलते जब हम किसी को कोई गीत गाते हुये सुनते हैं अथवा यूँ ही चलते हुये रेडियो पर कोई अपना प्रिय गीत सुन लिया हो तो प्रायः हम उसे स्वयं भी गुनगुनाते हुये आगे बढ़ जाते हैं और आगे कोई और हमें सुन कर उस गीत को गाते हुये अपनी दिशा में आगे बढ़ जाता है। इस प्रकार एक ही गीत एक मुख से दूसरे और फिर तीसरे मुख से होता हुआ पृथक-पृथक दिशाओं में स्वाभाविक रूप से विस्तार पाता चला जाता है। व्यवहारिक जीवन का यही मनोविज्ञान इस सामूहिक गीत में भी सहज रूप से दर्शनीय है। गीत के तीसरे अन्तरे के पूर्व के मध्य संगीत के पार्श्व में ‘रमय्या, वत्ता वइय्या, मैंने दिल तुझको दिया’ को राह चलते पथिक भी गुनगुनाते हुये आगे बढ़ते जाते हैं। आप दृश्य में देखें तो एक ताँगे पर सवार व्यक्ति ‘मैंने दिल तुझको दिया’ गाते हुये आगे बढ़ता है जिसे रास्ते में सायकिल पर सवार दूध वाला सुनता है और वह भी उसे गुनगुनाते हुये अपनी राह पर आगे बढ़ जाता है। इसी दूधवाले के शब्द-सुर को थाम कर दूर निर्जन स्थान पर बिछोह की पीड़ा लिये बैठी नायिका का वियोग भाव अनायास ही इन शब्दों में छलक उठता है – ‘याद आती रही दिल दुखाती रही …. प्यार करके भुलाना न आया हमें’। परन्तु शब्द-भाव की यह यात्रा यहीं नहीं ठहरती। वियोगिन नायिका के इस दर्द की कम्पन से व्यथित नायक के हृदय की साँकल बज उठती है और अधीर मन की पीड़ा का सागर सहसा ही फूट पड़ता है।

इस समूह गान का चरम है इसका अन्तिम अन्तरा। आप ध्यान दें तो आपको अनुभूत होगा कि गीत के अभी तक के तीन अन्तरे में गीत-संगीत अपने उत्सव भाव के साथ त्वरित गति से वेगवान रहते हुये अन्तिम अन्तरे में भी वाद्य यन्त्रों की संगत में गति और वेग का वैसा ही तारतम्य बनाये हुये है पर जैसे ही गायक मुकेश का स्वर उभरता है सम्पूर्ण गीत का अभी तक का स्थायी उत्सव भाव अकस्मात् उदात्त भाव के संग बिछोह के अनन्त सरोवर में पूर्ण रूप से समाहित हो जाता है। यह अकस्मात् परिवर्तन इतने हौले से होता है कि गीत अपनी समाप्ति की ओर अग्रसर होते हुये जब रफ़ी के आलाप के संग पूर्णता को प्राप्त होता है तब तक भी आप उसी बिछोह के सरोवर में आकण्ठ डूबे रहते हैं। ‘लय-सुर-ताल’ के एक समान सानिध्य के बाद भी सिने गीत-संगीत के अभी तक के इतिहास में यह सहगान एक मात्र ऐसा उदाहरण है जिसमें उल्लास के उत्सव का रूप सहज ही पीर के पर्वत में समा कर विलीन हो जाता है। ‘रस्ता वोही और मुसाफ़िर वोही’ की व्यथा का मर्म परोसते हुये जब समक्ष यह प्रश्न आता है ‘मेरी आँखों में रहे कौन जो मुझसे कहे’ तब गीत श्रवण कर रहे प्रत्येक हृदय से समवेत स्वर में वाणी मुखर हो उठती है – ‘मैंने दिल तुझको दिया’।

अचरज की बात है कि यह एक उत्सव गान होने के बाद भी इसके प्रारम्भ के तीन अन्तरे भी अपने में दर्द की अभिव्यक्ति को ही समाये हुये हैं और लता तथा रफ़ी ने इसे अपने-अपने स्तर पर अत्यन्त ही सहज रूप में प्रस्तुत भी किया है परन्तु जिस प्रकार अन्तिम अन्तरे में गायक मुकेश की वाणी गीत के स्थापित भाव को अपने गहन उदात्त भाव में सहज ही समाहित कर लेती है वह इस बात का प्रमाण है कि एक वाणी विशेष से प्रक्षेपित विरह बाण किस प्रकार विशाल समूह के हृदय को बेध जाती है।

आलाप से प्रारम्भ हो कर आलाप पर ही समाप्त होने वाले इस समूह गान में प्रारम्भिक आलाप मन्ना डे का है और अन्तिम आलाप मु रफ़ी के स्वर में है। पर, गीत के मध्य में एक आलाप लता मँगेशकर के स्वर में भी है। ‘याद आती रही दिल दुखाती रही’ अन्तरे के पूर्व ताँगे और दूधवाले की गुनगुनाहट के पार्श्व में नायिका की व्यथा से उपजा लता का आलाप विरह की वेदना को सहज ही साकार कर गया है। इन आलापों की संगत में शंकर-जयकिशन का रचा संगीत संसार अभी तक जो अनमोल सुर लुटाता आया है वह काल के भाल पर सदा के लिये अजर-अमर है।
अपने आभार ज्ञापन के क्रम में मैं भाई कमल बेरिवाला के साथ ही कोलकाता के संगीत मर्मज्ञ भाई अनूप गड़ोदिया का भी धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ जो पार्श्व में रह कर भी अपने बहुमूल्य सुझाव से गीत प्रस्तुति को जीवन्तता प्रदान करते रहते हैं। जी हाँ, मैं आप सभी संगीत रसिकों का विशेष आभारी हूँ जो आप सब इस गीत-संगीत की विशेष शृंखला को अपना आत्मिक समर्थन एवं हार्दिक स्नेह प्रदान करते हुये अपने बहुमूल्य प्रतिक्रियाओं से इस प्रस्तुति का मान बढ़ा रहे हैं।

आज के इस कालजयी गीत का आनन्द आप इस लिंक पर ले सकते हैं।
https://www.youtube.com/watch?v=5mdjuBdrVjA
.
डॉ राजीव श्रीवास्तव
.
ओ ssss ओ ssss
रमय्या वत्ता वइय्या, रमय्या वत्ता वइय्या
रमय्या वत्ता वइय्या। रमय्या वत्ता वइय्या
मैंने दिल तुझको दिया, मैंने दिल तुझको दिया
रमय्या वत्ता वइय्या, रमय्या वत्ता वइय्या
रमय्या वत्ता वइय्या, रमय्या वत्ता वइय्या
मैंने दिल तुझको दिया, मैंने दिल तुझको दिया
रमय्या वत्ता वइय्या, रमय्या वत्ता वइय्या
.
नैनों में थी प्यार की रौशनी (तेरी आँखों में ये दुनियादारी न थी – २),
तू और था तेरा दिल और था (तेरे मन में ये मीठी कटारी न थी – २)
मैं जो दुःख पाऊँ तो क्या आज पछताऊँ तो क्या – २
मैंने दिल तुझको दिया, मैंने दिल तुझको दिया
रमय्या वत्ता वइय्या रमय्या वत्ता वइय्या
.
उस देस में तेरे परदेस में (सोने चाँदी के बदले में बिकते हैं दिल – २),
इस गाँव में दर्द की छाँव में (प्यार के नाम पर ही धड़कते हैं दिल – २)
चाँद तारों के तले रात ये गाती चले – २
मैंने दिल तुझको दिया, मैंने दिल तुझको दिया
रमय्या वत्ता वइय्या रमय्या वत्ता वइय्या
.
ओ ssss ओ ssss
मैंने दिल तुझको दिया, मैंने दिल तुझको दिया
रमय्या वत्ता वइय्या रमय्या वत्ता वइय्या
रमय्या वत्ता वइय्या रमय्या वत्ता वइय्या
मैंने दिल तुझको दिया, मैंने दिल तुझको दिया
रमय्या वत्ता वइय्या रमय्या वत्ता वइय्या
.
याद आती रही दिल दुखाती रही (अपने मन को मनाना न आया हमें – २),
तू न आये तो क्या भूल जाये तो क्या (प्यार करके भुलाना न आया हमें – २)
वहीं से दूर से ही तू भी ये कह दे कभी – २
मैंने दिल तुझको दिया, मैंने दिल तुझको दिया
रमय्या वत्ता वइय्या, रमय्या वत्ता वइय्या
मैंने दिल तुझको दिया, मैंने दिल तुझको दिया
रमय्या वत्ता वइय्या, रमय्या वत्ता वइय्या
.
रस्ता वोही और मुसाफ़िर वोही (एक तारा न जाने कहाँ छुप गया – २),
दुनिया वोही दुनिया वाले वोही (कोई क्या जाने किसका जहाँ लुट गया – २)
मेरी आँखों में रहे कौन जो मुझसे कहे – २
मैंने दिल तुझको दिया, मैंने दिल तुझको दिया
रमय्या वत्ता वइय्या, रमय्या वत्ता वइय्या
रमय्या वत्ता वइय्या, रमय्या वत्ता वइय्या
आ ssss आ ssss
मैंने दिल तुझको दिया, मैंने दिल तुझको दिया
रमय्या वत्ता वइय्या, रमय्या वत्ता वइय्या
आ ssss आ ssss
.
फ़िल्म: श्री 420 (1955), गीतकार: शैलेन्द्र, संगीतकार: शंकर-जयकिशन, गायक: मन्ना डे, मु रफ़ी, लता मँगेशकर, मुकेश

Image may contain: 2 people, people smiling
Image may contain: 1 person, closeup
Image may contain: 4 people, people smiling, people standing and suit
Image may contain: one or more people

Interview of Shanker ji published in Mayapuri

 

INTERVIEW: संगीतकार शंकर ने सभी हिट फिल्में दी है

 0 380

मायापुरी अंक, 58, 1975

शंकर – जयकिशन के फेमस म्यूजिक हॉल में संगीतकार शंकर से भेंट हुई। मैंने उनसे पूछा, आपने अपने 27 वर्षीय फिल्मी जीवन में अपने हिसाब से किन फिल्मों में हिट संगीत किया है?

हमने आज तक जिस फिल्म में संगीत दिया वह हिट हुआ है क्योंकि हमारा संगीत वक्त के साथ-साथ चलता था। इसलिए किसी एक फिल्म का जिक्र क्या करें। सारी ही फिल्में संगीत के लिहाज़ से हिट जा रही हैं। इसके बावजूद आज मैं यह कहने पर मजबूर हूं।

सब कुछ सीखा हमने न सीखी होशियारी।

सच है दुनिया वालों कि हम है अनाड़ी।

शंकर जी ने मेरे प्रश्न के उत्तर में कहा।

धुन बनाने के लिए आपका क्या तरीका होता था ?

मतलब आप धुन पहले बनाते हैं या गीत लिखवा कर धुन बनाते है ? मैंने पूछा।

हम अपने हिसाब से सिचवेशन बनाकर रखते थे और उसी के आधार पर ‘डमी’ उन्हीं शब्दों के साथ निर्देशक को सुना कर स्वीकृत करवाया करते थे। ‘डमी’ शब्द भी इतने जानदार होते थे कि सुनने वाला हिल नही सकता था और कभी-कभार तो ऑरिजनल बोल भी ऐसे होते थे कि सुनने वाला तड़प जाता था। शंकर जी ने बताया।

क्या कभी ऐसा भी हुआ है कि ऐन मौके पर आपको सिचवेशन देकर गीत तैयार करने पड़े हो ? मैंने पूछा।

ऐसा कभी नही हुआ। हम लोग प्राय: साथ बैठ कर नई-नई धुनें सोचा करते थे और जब भी कोई धुन तैयार हो जाती थी, गीत तैयार करके रख लेते थे। ‘श्री 420’ का हिट गीत ‘मेरा जूता है जापानी यह पतलून इंगलिस्तानी सर पे लाल टोपी रूसी, फिर भी दिल है हिंदुस्तानी’, ऐसा ही गीत है। बैठे-बैठे दिमाग में धुन आई और शैलेन्द्र ने गीत लिख दिया। राज साहब को सुनाया और सुनते ही ओ.के. कर दिया।

ऐसे ही एक रात हम लोग राज साहब के साथ बैठे। राज साहब ने सिचवेशन बनाई कि एक तरफ डाकू है पद्मिनी है और राजू है दोनों आमने सामने है। शैलेन्द्र ने तुरंत कहा।

हम भी है तुम भी हो,

दोनों है आमने-सामने।

देख लो क्या असर कर दिया

प्यार के नाम ने।

और वह गीत भी बड़ा हिट सिद्ध हुआ शंकर जी ने बताया।

Shanker Jaikishan
Shanker Jaikishan

कभी ऐसा भी हुआ कि गीत बनाते समय आपको अपनी धुन पसंद रही हो और राज साहब को पसंद न आई हो और फिर वही गीत हिट हो गया हो ? मैंने पूछा।

राज साहब से ही नही कभी कभार हम दोनों में भी मतभेद हो जाता था। ‘श्री 420’ में पानी में भीगने के समय का एक गीत था शैलेन्द्र ने उसके लिए गीत लिखा

रातों दसों दिशाओं से।

फिर भी कहेंगे कहानियां।।

हम न रहेंगे तुम न रहोगे।

फिर भी रहेंगी निशानियां।।

उस समय राज साहब और नर्गिस बैठे हुए थे, गीत सुनकर सबने पसंद किया। किंतु दसों दिशाओं वाली पंक्ति मुझे पसंद नही आई। मैंने बोल को कंडम कर दिया। मुझे इस मूड में देखकर राज साहब और नरगिस कुछ नहीं बोले जिससे मुझे लगा कि उन्हें गीत पसंद है। राज साहब ने कहा सुनने में अच्छा लगता है। लेकिन उस वक्त मुझे वह जरा अच्छा नही लगा। अगले दिन जब फिर उस गीत पर बैठे तो मुझे भी वह अच्छा लगा और इस तरह वह गीत भी अमर हो गया। इसी प्रकार ‘बूट पॉलिश’ में पहले तो कोई गीत ही नही रखा गया था। लेकिन जब फिल्म देखी तो लगा कि बिना वजह डिब्बे भर दिये गए है। आखिर राज साहब ने हमें बुलाया और साथ बैठकर फिल्म दिखाई जिस में ट्रेन ही ट्रेन दौड़ रही थी और बच्चा भाग रहा था। राज साहब ने कहा इसमें गानों की सिचवेशन निकालिये हमने कहा अगर आप डायरेक्ट करेंगे तो हम संगीत देंगे वरना नही। राज साहब ने जब अपनी सहमति दे दी तो हमने सिचवेएशन निकाली कि एक बूढ़े को बच्चे बड़ा प्यार करते है। उसे भी बच्चों से बड़ा प्यार है। उसी सिचवेशन पर गीत लिखा गया था।

नन्हें मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या है ?

‘मुट्ठी में है तकदीर हमारी’ हमने किस्मत को बस में किया है।

गीत सुनकर जयकिशन ने कहा, इसमें वजन ही नही है। इसकी धुन नही बन सकती। राज साहब ने कहा ज़रा सोचो और फिर हम राज साहब के साथ बैठ गए। और जब यह गीत ‘जान चाचा तुम कितने अच्छे तुम्हें प्यार करते सब बच्चे’ तैयार हुआ तो उसने हंगामा मचा दिया। ऐसे एक बार ‘आह’ के एक गीत पर राज साहब से मतभेद हो गया था। ‘आह’ के लिए हम गीत बना रहे थे। राज साहब के अलावा स्व. अमिया चक्रवर्ती भी मौजूद थे। हमने उन्हें गीत बनाकर सुनाया

राजा की आएगी बारात

रंगीली होगी रात

मगन में नाचूंगी

गीत अमिया चक्रवर्ती को तो अच्छा लगा किंतु राज साहब को पसंद नही आया नापसंद करने वालों में राज साहब थे। उन्होंने वातावरण का रूख देखकर पुन: सुनाने के लिए कहा हमने कहा जाने दीजिए आपको पसंद नही आ रहा है तो हम आपके लिए दूसरी धुन बनाएंगे लेकिन राज साहब संगीत में बड़े निपुण है। उन्होंने पुन: गाना सुना और बहुत पसंद आया। बाद में शैलेन्द्र का लिखा और लता का गाया यह गीत सर्वश्रेष्ठ गीत रहा शंकर जी ने बताया।

अभी मैं और कुछ पूछता कि मजरूह साहब आ गए और वह दोनों गीत की तैयारी में लग गए

 

 

Courtesy

http://www.mayapuri.com/legend-musician-shankar-ji-interview/

अमर ‘जय गाथा’ – A TRIBUTE TO ‘JAIKISHAN’ JI ON HIS 82nd BIRTH ANNIVERSARY

by

 

उम्र थी सिर्फ़ १३ वर्ष की, तब से ही संगीत से लगाव था उसे … वंसदा की गलियों में घूमना फिरना, गाव में रहनेवाली गुजरिया के लोकगीत सुनना और फिर अपने दोस्तों को हुबहू सुनाना … पिताजी चल बसे तो बड़े भाई बलवंत को घर की जिम्मेदारी आ गई थी और उसकी भी … पढाई लिखाई में ज्यादह ध्यान नहीं था … ‘टेलरी’ भी की मगर दिल नहीं लगा उसका … ‘जयकिशन दयाभाई पांचाल’ फिर एक दिन चला आया सपनों की मायानगरी में …बंबई (मुंबई) हर किसी को सहारा देनेवाली नगरी …. संगीत विशारद वाडीलाल जी के शिष्य रहे जय की, ‘हारमोनियम’ पर कुशलता से उंगलिया चलती थी … ‘चंद्रवदन भट्ट’ साहब के ऑफिस में अक्सर चक्कर लगाता रहता की, कुछ ‘चक्कर’ चल जाये … वहां एक युवक से मुलाक़ात हो गयी, और फिर गहरी दोस्ती भी … उस युवक का नाम ‘शंकर सिंह रघुवंशी’ था, वह युवक भी संगीत निर्देशक बनना चाहता था …तबला ग़जब का बजाता था …उसे भी भट्ट साहब ने काम दिलाने का वादा किया था … दोनों का सपना, मक़सद एक था … फिर एक दिन उस युवक ने जय को कहा, पृथ्वी थिएटर में हारमोनियम वादक की जगह खाली है क्या वहां काम करोगे ? जय ने फ़ौरन हां कहा, फिर एक नयी जिंदगी, नयी कहानी शुरू हुई, तब उन्हें भी पता नहीं था, लेकिन दिल गा रहा था …

‘कहता है दिल रस्ता मुश्किल
मालूम नहीं है कहा मंजिल’ ?

लेकिन मंजिल अब ज्यादह दूर नहीं थी … पृथ्वी थिएटर में दिन बड़े ग़ज़ब के गुजरने लगे …शंकर और जय कुछ छोटी छोटी भूमिकाएं भी निभाते नाटक में … साथ में धुनें भी बनाते … किस्मत पलटने में देर नहीं लगी … राज साहब ने १९ वर्षीय जय और २६ वर्षीय शंकर को बरसात के संगीत निर्देशन की जिम्मेदारी दी … और इस युवा संगीतकार जोड़ी ने पहले ही फ़िल्म में कम्माल कर दी, संगीत का नया इतिहास लिख दिया … इन दोनों के साथ दो नौजवाँ गीतकार भी थे शैलेंद्र और हसरत जयपुरी
एक आया था हैदराबाद से, एक गुजरात से, एक रेलवे में था तो एक ‘बेस्ट’ में … चारों चार दिशाओं से एक जगह आये और दसो दिशाओंमें इनका बोलबाला रहा, लगातार २० बरस तक संगीत साम्राज्य पर इन्हीं का अधिराज था …शंकर जी अपने काम पर दृढ़ विश्वास रखते थे, काम के बाद भी संगीत से जुड़े रहते तो जयभाई काम के बाद अपना समय लोगों से मिलने में गवाते …जैसे की गुजराती होते है, वैसे ही बड़े ही मिलनसार थे जय …पार्टियों में जाना …लोगों से परिचय बढ़ाना, उनकी खुशियाँ और गम में शरीक होना … जिंदगी को जिंदादिली नजरिये से देखते थे …अब शोहरत थी, इज्जत थी, इस जोड़ी का संगीत देश के कोने कोने के साथ रूस, मिडिल ईस्ट और चीन की धरती तक पहुँच गया था लेकिन शंकर जी के साथ जय के भी कदम जमीं पर थे, नए नए प्रयोग करते थे, पारंपारिक वाद्यों के साथ ‘गिटार’, ‘मेंडोलिन’, ‘अकॉर्डियन’ आदि नए वाद्यों का भी बदलते वक़्त को भांपकर इस्तेमाल करते रहे, अजरामर धुनें बनाते रहे ….
१९६४ के बिनाका गीतमाला के अंतिम सालाना प्रोग्राम में, हसरत साहब से अमिन सायानी साहब ने एक सवाल पूछा था …

‘ये कैसे पहचाने की, कौनसी धुन शंकर जी ने बनाई है और कौनसी जयकिशन साहब ने ?

हसरत साहब का जवाब यूँ था (ऑडियो क्लिप)

‘आशिक़ाना ढंग की धुनें बनाते थे ‘जयकिशन’ साब और फलसफ़ा ढंग की, क्लासिकल ढंग की धुनें बनाते थे हमारे शंकर जी’

सैकड़ों गीतों को अमर कर दिया था जय ने शंकर भाई के साथ दिन रात एक करके, कभी कभी पूरी रात बीत जाती थी गीतों की रिकॉर्डिंग में पर मुस्कुराहट कायम रहती …उन दिनों आज जैसी सुविधाएं भी नहीं थी रिकॉर्डिंग की, लेकिन संगीत की साधना करनेवाले सच्चे फनकारों को सृजन के लिए इन की जरुरत भी नहीं थी …पाश्चात्य धुनों के साथ ‘बसंत बहार’ (१९५६) में अस्सल रागदारी पर आधारित धुनें बनाकर उन्होंने ‘हम किसी से कम नहीं’ यह दिखा दिया था … सबको मुंहतोड़ जवाब दिया था …५० और ६० के दशक केवल उन्हीं के थे … SJ की इस लोकप्रियता की वजह थी, शंकर जी को जय की आजीवन समर्थ साथ … कभी कभी शंकर जी की गैरहाजिरी में जय ही संगीत की बागड़ोर संभालते और संगीत का दर्ज़ा किसी भी कीमत पर कायम रखते (फ़िल्म – आरज़ू)
‘दो जिस्म मगर एक जान है हम
एक दिल के दो अरमान है हम’
बस ऐसे ही जिये, साथ हँसे, रोयें जय साहब और शंकर जी …

राज साहब की होली भी धूमधाम से मनाते थे जय, शंकर जी के साथ तो ‘वॉर फंड’ के लिए स्टेज प्रोग्राम में भी क़दम से क़दम मिला कर खड़े रहते और सामाजिक कार्यों में अपना योगदान देते रहते …
फ़िल्म संगम में राज साहब का एक संवाद है …

‘रोयें तो यार के काँधे पर
जायें तो यार के काँधे पर’

१४ दिसंबर १९६६ को अपना जिगरी यार शैलेंद्र के बिछड़ने पर कंधा देते वक़्त, रोते हुए जय और शंकर जी के साथ राज साब को भी यही संवाद याद आया होगा और फिर अपनी सफलता की चरम सीमा पर पहुंच कर १२ सितंबर १९७१ को जय भी चले गये अपनी सुरीली जीवनयात्रा समाप्त करके सिर्फ ४१ साल की उम्र में …शंकर जी के दोनों बाहूँ टूट चुके थे, पहले कविराज अब जय …
लेकिन शानदार कीर्तिमान स्थापित किये थे उन्होंने, सब कुछ हासिल कर लिया था …

‘नौ बार सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का ‘फ़िल्म फेयर पुरस्कार’,

‘बिनाका गीतमाला’ इस सर्वाधिक लोकप्रिय रेडियो प्रोग्राम में १३५ ‘सरताज’ गीत

१९६८ में ‘पदमश्री’ पुरस्कार

आज #जय साहब के जन्मदिन पर सभी दोस्तों के साथ उन्हें विनम्र अभिवादन !!!

Sudhakar Shahane

Image may contain: 2 people, people smiling
Image may contain: 2 people, people playing musical instruments
Image may contain: 2 people, people smiling, people sitting

As music lovers celebrate the 82nd birth anniversary of Jaikishan this Friday, here’s a rewind to the magic of Shankar Jaikishan

Cinema

Yaad Na Jaye… A file picture of Shankar greeting Jaikishan on his birthday

Written by

Deepak Mahaan

Shankar Jaikishanthe name itself is so lyrical and inspiring that none is surprised that the music director duo created some of the greatest songs ever for Hindi film screen. If Shankar was named after the great Hindu deity of dance and Jaikishan’s name was the very embodiment of God of music, such a lethal combination of blessed talent had to be conjurers of exemplary notes. Obviously, when they captured the music lovers’ imagination and hearts with mesmerising array of melodies it didn’t surprise anyone since it was always expected of their formidable ability.

If Naushad exuded classical charm, Sachin Dev Burman exemplified the Himalayan tranquillity and O. P. Nayyar executed nature’s countless rhythms, then Shankar Jaikishan (SJ) duplicated various colours of the seasons in their enticing compositions. From high brow symphonies to rustic ballads, they had enthralling masterpieces to bind every listener’s heart in delightful ecstasy. Their years at the great Prithvi Theatre made them understand how music could be utilised to heighten the dramatic elements and this intrinsic talent of using sound to convey subtle emotions won them mass adulation without difficulty.

What compels attention in most SJ creations are the intricate and elaborate introductory pieces that not only set the mood and tone but also became tour-de-force of the melody. Though SJ conducted huge orchestras, they always ensured that the distinctive sounds of different instruments came forth with immaculate clarity without distorting the harmony of the overall composition. Listen to the harmonium crescendo before Mohammed Rafi creates nostalgia with “Yaad Naa Jaaye” (“Dil Ek Mandir”) or the sitar, violin and piano notes chiselled within a humming chorus prior to Rafi’s evergreen “Ye Mera Prem Patra” (“Sangam”) and you realise how the operatic preludes arrest our attention even before the words come into play.

Instrumental interludes

Similarly their instrumental interludes between verses were a treat to hear as they were set to enhance the evocative appeal of the image on screen. Remember how the violins meander around accordion notes to augment Sadhana’s pristine beauty and Lata Mangeshkar’s voice in “Tera Mera Pyaar Amar” (‘Asli Naqli’) or the way saxophones enhance Mukesh’s romantic aura in “Ae Sanam Jisne Tujhe” (‘Diwana’). The list is long and difficult to mention within the confines of a small article but suffice to say that several music directors tried to master this art but couldn’t reap the same results.

If Nayyar created unforgettable rhythmic patterns from stray objects, then SJ gave life to many established rhythms like foxtrot, waltz and teen taal (16 beat tempo) with their dexterous use of bongo drums, dholaks, octopads and congos. Within the limited scope of a song sequence, SJ designed wonderful patterns of sounds that not only helped raise the quality and mood of the song but also exhibited their irrepressible virtuosity. Described as “ultimate composers” by Nayyar, the talented duo even composed elaborate Hindustani classical ragas on prominent western instruments and vice versa with astounding success. Though their popular numbers are well entrenched in public memory, it must be stressed that they were the pioneers of fusion music and their exceptional non-film disc “Raga Jazz Style” was its finest example. Judging from the overseas response to their exquisite English number by Usha Uthup in “Bombay Talkies” to the accompaniment of tabla, flutes and sitar, one can say that they could have certainly ‘rocked’ the western world if they had so desired. For greater proof, visit youtube.com and see why their “Jaan Pehchaan Ho” (“Gumnaam”) and “Dekho Ab To” (“Jaanwar”) songs are such smashing hits amongst western listeners!

Raj Kapoor may have played an integral role in establishing SJ but it is a fallacy to credit him for all their success. Even excluding the RK films, the sheer range of their musical compositions and success is breathtaking with such diverse films as “Daag”, “Seema”, “Halaku”, “Basant Bahaar”, “Humrahi”, “Sasuraal”, “Amrapali”, “Asli Naqli”, “Arzoo”, “Dil Ek Mandir”, “Junglee”, “Professor”, “Love in Tokyo”, “Suraj”, “Brahmachari”, “An Evening in Paris” and several others that cannot be listed for want of space. In fact, apart from Raj Kapoor’s super stardom, SJ also played a big hand in establishing Shammi Kapoor and Rajendra Kumar and many of their films actually ran to packed houses only because of SJ’s enchanting musical bouquets.

One must confess that the contribution of two outstanding lyricists Shailendra and Hasrat Jaipuri has to be etched in gold since they gave life to SJ music and their lyrics created their legend. If Shailendra was brevity personified with philosophical gems embedded in every line, Hasrat was the Urdu poet with romantic sensibilities and their simple poetry from everyday language made SJ music connect instantaneously with the masses. Veteran film critic Raju Bharatan reveals that that most of the times the writers wrote the lyrics to an already prepared SJ tune but such was their mastery that not only would they quickly adapt the metre but also pen easy to decipher words. This is easier said than done and it is fair to say that these two accomplished writers were great assets for SJ music.

Alas, when Jaikishan died young and Raj Kapoor too abandoned the SJ banner, it led to a steady eclipse of business. Though Shankar never lost his magical prowess; his acidic tongue made Bollywood enemies push the SJ name out of the creative arena. Nevertheless, it is safe to predict that centuries later when many composers would have been forgotten, the SJ name would be eulogised for its remarkable, life infusing Shammi-Rafi numbers as they impart immense joy and strength to every human being. There is an immense rejuvenating power in most SJ creations but nowhere are the joie-de-vivre and the exultation of youth more visible and infectious than in the magical bond of Shammi, Rafi and SJ that will live forever. If imitation is the best form of flattery, I still think Rahul Dev Burman’s score for “Teesri Manzil” is the ultimate tribute to the genius of Shankar Jaikishan!

 

Courtesy :

https://www.thehindu.com/todays-paper/tp-features/tp-fridayreview/tumse-achcha-kaun-hai/article2596004.ece