Archive for December, 2016

The Glorious Shanker-Jaikishen

Sharda Rajan recounts the glorious past

God said . let there be a revolution in the music of India , let there be new abundant variety of melodies & tunes , let there be rich modern , magnificent orchestra of high grade……..and He created Shanker Jaikishen..

They were not siblings, cousins or relatives . They were not classmates , boyhood friends or any sort of associates….

How they could have met & joined in a most wonderful harmonious union which lasted a lifetime & beyond unless God had wished so .

Their association , their friendship & their style of work were so unique , pure & sincere & divine.

Shankerji used to arrive in the music hall every afternoon & sit there late till night , playing harmonium , making songs & pieces for orchestra.. Jai sab used to come off & on . When they were together sitting with their bajas ,playing & comparing notes it would seem that the Gods & Goddesses of music were present there alive in their melodious musical notes.

Most of the time the hall would be crowded with people. On some rare occasions Shankerji would be sitting there alone playing his harmonium , drowning himself in the flow of music pieces.

On one occasion a song is fixed for recording . And Shankerji goes on & on playing the song .

I ask him . ‘ why are you playing this song over & over again ? The composition is complete & the recording is fixed.

Says he, ‘ you have to go on playing it over & over , that is how you get new ideas & innovations.’

Sure , they brought countless new turns , variations & novelties in their compositions.
The bend in ‘Tera mera pyar amar,’ the hum in ‘Tu pyarka sagar hai,’
The voice over back up in ‘Jabbhi e dil udas hota hai’, the extended TUM in ‘ Tum..m…hi tum..m ,, ho mere jiwanme,’ & the zig zag swishes in the last part of ‘Asmanme tare hai beshuma..a…a…a..a…aaar …
And the up down up down swings in the antara of song ‘Jiya ho jiya kuch boldo ‘ and like these many more.

And the tunes , they would start the song from any new venues like in the notes above the highest note of the middle octave, which noone had ever done before….
Like in ‘Dil tera diwana ‘& ‘Rukja raat ‘
And the jumping in the tunes to unimaginable far away notes like
‘ Dheere dheere …..[sudden jumping]….chal…..
Any one would have thought that after ‘Dheere dheere , the next part would come in the next notes.
Not S J ..their notes would go anywhere to anywhere taking all of us in a melodious high jump ride..
In ‘Akele akele . the song is going softly & suddenly the high jump comes & we are all taken to dizzy heights.

And the various audiations like ‘uf umma ‘ ‘ayayaya’ ‘Yahoo ‘ ‘Takdhindhin, ‘vaivaivai” ‘ullalla ‘ and as such …..

And the mind blowing orchestra , the like of which no one have seen anywhere in the world…. The jerking rhythm pattern in song ‘Tera jana .. & the high energy emotional overtures in ‘Chahe koi mujhe junglee kahe’….the hummable evergreen pieces in ‘mere jhoota hai japani’. The heart pulling cuts & breaks in the music of song ‘Dost dost na raha’ And the sheer brilliance in the music of ‘Ajeeb dastaan ‘ which does not have any match to date in the whole world ..I can mention only few songs ..because I will not be able to analyse so many of them

And the background score of Joker ..an all time classic creation .

Shankerji worked day and night during the background recording holed up in the studio

He was nowhere to be seen , in his regular joints , music hall , nor in CCI club or anywhere for nearly over a month. He just disappeared from the scene.

Because in background music , you have to see the movie , take the timing of the scene & compose the music piece to fit in that time.It has to be composed on the spot , you cannot remember the timing of the scene , compose it at home & bring . So like this ,scene after scene has to be seen & the music has to be composed & recorded.

The recording studio was booked for a month or so & Shankerji stayed there day & night . I do not know how many days Jaikishenji was there.I am sure he must have been there most of the time. But I know Shankerji was there all the time. because I used to go to the studio for my regular sittings & Shankerji was nowhere to be seen there. like all the other time sitting in the music hall every evening.

When I entered film industry, it was their high ascent time & they were zooming & zooming higher & higher Their fans growing day by day & the awards & trophies pouring in .. I heard there were complains from their households that there is no more place in their huge flats to keep any more trophies.

Time for mischief mongers to make entry..Some sly foxes would come to Shankerji , & try to put a wee little poison in his mind , about Jaikishenji…. No need to say Shankerji would flare up & throw this guy out of the music hall in just one moment ,,
The same thing Jaikishenji would do ,, but in his own way

Shankerji told me , that when some such people went to them separately , he said with awe that Jaikisenji also had given the same reply as Shankerji had given to these people.

Thus was their inner tuning , they thought & worked in the same wave length whether they were near or far……………..

Many trophies many movies many jubilees many awards & many shows & then the time comes for government appreciation.

Information comes that Shankerji’s name has come on the Padmabhushan title list..

Cheers but no cheers.

Some thing wrong has happened …..As Shankerji had told me …….

Some dumbos in the government had entered the name Shanker Jaikishen as one name belonging to one person.So one award had been allotted..

Phone calls fly up & down from Delhi & Bombay Officials are contacted in Bombay.. They all understand the mistake & feel sorry.

But they cannot do anything now…. no time for rectifying the mistake .. If S J can take Padmashree , then two Padmashrees can be given . But no two Padmabhushans can be given now..

Shankerji opts for two Padmashrees instead of waiting one more year to get two Padmabhushans.

What is a Padmabhushan or Padmashree ? Can it match their work & their genius? Their value is much much higher than the value of a Padma bhushan or Padmashree..

Even calling them emperors is not giving them their worth . Because many emperors have come & gone with no naamo nishan .

Shanker Jaikishen’s greatness will live for ever like a lighthouse guiding all generations to come. Their music will be alive youthful & fresh matching to any new generation for all time to come.

Advertisements

अविभाज्य शंकर जयकिशन Inseparable Shanker Jaikishen

 

Shyam Shankar Sharma's photo.
Shyam Shankar Sharma's photo.
Shyam Shankar Sharma's photo.
Shyam Shankar Sharma's photo.

By : Shyam Shankar Sharma

हिंदी फिल्म संगीत की सबसे सफलतम,सबसे चर्चित,सबसे गुणी जोड़ी का उनके सजीव काल में भी तथाकथित बूद्धिजीवियों द्वारा उन्हें आलोचना का केंद्र बिंदु बनाया और उनके देवलोक गमन के बाद भी उन्हें चैन नहीं पड़ रहा अतः वो अवसर पाते ही शंकर जयकिशन जी को विभाजित करने का असफल प्रयास करते है।कितना बड़ा आश्चर्य है जयकिशन जी 1971 और शंकर जी की 1987 में मृत्यु हो जाने के बाद भी इन दोनों को अलग अलग मापदंडों पर रखा जाता है,उन्हें प्रथक प्रथक करने की चेष्टा की जाती है!
इसमे उनका भी दोष नहीं है,कमाई उन्ही समाचारों से होती है जो चर्चित है जिसे लोग पड़ सके।विभिन्न स्थानों पर हो रहे शंकर जयकिशन जी की स्मृति में रखे जाने कार्यक्रमो की निरंतर अभिवर्धी ने उन्हें चौका दिया है।
न जाने कितने संगीतकार आये गए और चले गए उन पर कभी कभार चर्चा जरूर हो जाती है किंतु उसमे विवाद का तड़का कभी नहीं लगता।इसका कारण है कि वो विशिष्ठ नहीं थे?भारत विभाजन के बाद नेहरूजी से लेकर मोदी जी तक के मध्य बहुत से प्रधान मंत्री बने किंतु इनमे से ज्यादा चर्चा उन्ही प्रधान मंत्री की होती है जो विशिष्ठ थे और है।
यही बात फ़िल्मी संगीत के परिपेक्ष्य में प्रायः शंकर जयकिशन को लेकर होती रही है।हाल ही में अहमदाबाद में हुए SJMF के रजत जयंती समोराह की भव्यता देख शंकर जयकिशन जी के ध्रुव विरोधी भी आश्चर्य में पड़ गए की शंकर जयकिशन जी लोकप्रियता तो आज भी जस की तस है और प्रबुद्ध वर्ग उनका दीवाना है,इसी कारण भव्य आयोजन हो रहे है।
अतः उनकी कलमें फिर से जहर उगलने लगी है।
शंकर जयकिशन की जोड़ी वर्ष 1971 में जयकिशन जी के अवसान के बाद टूटी यह नियति का खेल था।जयकिशन जी स्वर्गलोक सिधार गए किन्तु इस गम से शंकर जी कभी उभर ही न सके और यही से हुआ एक संगीत योद्धा के ऊपर कुप्रचार।
बड़े भाई से जब छोटा भाई छिन जाता है अथवा जवान पुत्र पिता से छीन जाता है तो जाने वाले का दर्द सभी को दिखता है,उसकी कमी नज़र आने लगती है किंतु जो इस गम को सह रहा है उसकी तो जीते जी मौत सी हो जाती है।
सभी यह स्थापित करने में लग गए कि मानो सब कुछ जयकिशन जी ही करते थे,शंकर जी के पास कोई सृजन ही नहीं था?यह एक ऐसा कृत्य है जिसका शमन करना बहुत जरुरी है।
दृश्य की जड़े हमेशा अदृश्य होती है !जिसे हम देखते है,छूते है उसकी जड़े भी अदृश्य होती है।पौधे पर लगे मुस्कराते पुष्प की सुंदरता तो हम भांप लेते है किंतु वह सूंदर क्यू बना इसको जानने की कोशिश नहीं करते!
यही हमारी गलती है,उस पुष्प की सुंदरता तो जड़ो से है,जड़ से पौधे को अलग कर दो फूल मुरझा जाएगा!
हम शंकर जी की आलोचना करते वक़्त यह भूल जाते है कि वो ही इस संगीत जोड़ी की मूल जड़ थे!
जयकिशन जी की स्थापना तो शंकर जी ने ही की थी,राजकपूर तो अपनी बरसात शंकर जी को ही देना
चाहते थे उन्हें जयकिशन जी में कोई रूचि नहीं थी,किन्तु शंकर जी की ज़िद के आगे झुकना पड़ा राजकपूर को,और बनी संगीत जोड़ी शंकर जयकिशन।
गर चाहते तो अकेले शंकर जी ही इस फिल्म को कर लेते किन्तु वह जयकिशन जी को इतना चाहते थे कि उनके बिना वह स्वयं की कल्पना ही नहीं कर सकते थे।क्यू कि एक पारखी ही हीरे को पहचानता है।राजकपूर उस वक़्त न जयकिशन जी का सही आंकलन कर पाए और न ही लतामंगेशकर का?
किन्तु शंकर जी ने दोनों का सही आंकलन किया उन्हें अवसर दिया जिसके कारण राजकपूर का फ़िल्मी साम्राज्य स्थापित हो सका RK बैनर की स्थापना हुई।यह एक ऐसा बैनर था जिसके सामने दूसरे बैनर बहुत छोटे नज़र आते थे और इसकी स्थापना की जड़ में थे शंकर जी।
जयकिशन जी,लता जी और राजकपूर को तो उनका ऋणी होना चाहिए।जयकिशन जी ने इस ऋण को सदा आदर दिया और संगीत का यह चंद्र गुप्त सदा अपने गुरु चाणक्य का अनुसरण करते हुए इस दुनिया से गमन कर गया।
जयकिशन जी का स्वर्गवास हो गया और शंकर जी की जीते जी मौत जैसी स्थति कर दी गयी ,अपमान दर अपमान,आरोप दर आरोप!निकृष्ठथा कि हदे पार कर दी गयी।शंकर जी को उम्र के पड़ाव पर जयकिशन जी के आकस्मिक निधन ने कमज़ोर जरूर किया था किन्तु वह संभल सकते थे,किन्तु RK बैनर ने उनकी पीठ पर छुरा भौक दिया और उन्हें संगीतकार मानने से ही इंकार कर दिया और यह कह दिया कि सब कुछ तो जयकिशन करते थे?राज साहिब आप तो जयकिशन जी को बरसात के वक़्त ही नकार चुके थे अतः आपको सफाई देने की आवश्यकता ही नहीं है,बिना शंकर जी के आप कुछ नहीं थे,आग की तपिश को क्या आप भूल गए?
RK बैनर से शंकर जी को च्युत करने से फिल्म उद्योग में यह संदेश गया कि शंकर जी से फिल्मे वापस लो और नवीन फिल्मे मत दो ,इसका प्रचार प्रसार युद्ध स्तर पर किया गया,जिस लता जी को शंकर जी ने स्थापित किया था वो मुकेश जी के संग मिलकर कुचक्र करने लगी,यह वही मुकेश जी थे जिन्हें शंकर जी ने बुरे हाल में पुनः स्थापित किया था और..ऐ प्यासे दिल बेजुबाँ तुझ को ले जाऊँ कहाँ और ये मेरा दीवानापन है या मोहब्बत का सरूर जैसे गाने गवाये थे जिससे मुकेश जी पुनः मूल धारा में लौट सके।
जोकर में एक गाने का टुकड़ा है…
माल जिससे पाता है,गीत जिससे गाता है उसके ही सीने में भोकता कटार है?
राज कपूर,मुकेश और लतामंगेशकर ने यही किया।
नितांत अकेले पड़े इस समय में फिल्म नगर बैनर ने साहस कर अपने आपको शंकर जी के सुपर्द कर दिया और उसके परिणाम पहचान,बेईमान, सन्यासी,सीमा,दो झूठ आदि फिल्मो द्वारा प्राप्त हुए जो आलोचको को जवाब देने के लिए पर्याप्त थे।अगर आप जयकिशन जी के बाद शंकर जी के सृजन को सुनेंगे तो आप महसूस करेंगे की शंकर जी में संगीत की अपार क्षमता थी,खुद लता जी ने स्वीकारा है शंकरजी की कंपोज़िंग सबसे श्रेष्ठ थी!किन्तु रस्सी जल जरूर जाती है किंतु बल नहीं जाते!लता जी पर यह बात सिद्ध होती है।
जब लता जी को शंकर जी ने अवसर दिया तो सब सही था किंतु अगर वो शारदा जी को ले आये तो अनर्थ हो गया,क्या नई प्रतिभाओं को अवसर देना गलत है?
शंकर जी और शारदा जी के संबंध में इतने घटिया शब्दो का प्रयोग किया गया कि उन्हें लिखते हुए ही शर्म आती है किंतु फ़िल्मी लेखकों की सौंच ही इतनी घटिया थी।
शंकर जी उसूलों में जीने वाले संगीतकार थे,ईश्वर ने उन्हें बहुत वैभव दिया था,चाहते तो वो भी शान्ति से अपना जीवन जी सकते थे,किन्तु संगीत उनकी आत्मा थी।
अतः वह मैदान में डटे रहे और इसी फिल्मी दुनियाँ ने उन्हें 50 के आसपास फिल्मे दी,कार्य सदा उनके दरवाजे पर दस्तक देता रहा,वह पहले संगीतकार थे जो आयुपर्यन्त संगीत देते रहे,जब उनका स्वर्गवास हुआ उस वक़्त भी उनके पास फिल्मे थी।
विपरीत हालातो में 50 फिल्मे प्राप्त होना कोई खेल नहीं है?इतनी फिल्मे तो कई संगीतकार कर ही नहीं पाते?
खैर जिस कारण मुझे यह लेख लिखना पड़ा उसका कारण यह था कि फ़िल्मी पत्रिका चित्रलेखा में एक लेख प्रकाशित हुआ जिसमें यह लिखा था कि एक जाने माने संगीतकार ने जयकिशन के निधन के बाद शंकर जी के साथ जोड़ी बनानी चाही तो शंकर जी ने कहा में जयकिशन के बिना कोई कल्पना ही नहीं कर सकता,मुझे भी मौत आ जाय तो अच्छा है किन्तु में जयकिशन के अलावा किसी से जोड़ी बना ही नहीं सकता।सुना है अपनी फिल्मो से प्राप्त आय का आधा हिस्सा वो जयकिशन जी पुत्री भैरवी को भिजवाया करते थे।
वक़्त गुजर जाता है और इतिहास बन जाता है।शंकर जयकिशन की जोड़ी को अन्तोगत्वा सभी संगीतकारो ने महान बताया।
शंकर जी,ख़ामोशी से इस दुनिया को अलविदा कह गए और छोड़ गए कई प्रश्न?
किन्तु उनके गीत कभी खामोश ही नहीं होते वो काल के साथ चलते चलते और जबरदस्त रूप में आज भी
भी यही कह रहे है..कि हमें शंकर जयकिशन ने बनाया है भला किसकी मजाल जो हमें मिटा सके!हम अजर है अमर है।
Shyam Shanker Sharma

Jaipur, Rajasthan.

%d bloggers like this: